logo
search
search
user
login
Login

M^(2+)//M और M^(3+)//M^(2+) निकाय के संदर्श में, कुछ धातुओं के E^(Tesla) मान के नीचे दिए जाये हैं: <br> Cr^(2+)|Cr=-0.9 V Cr^(3+)|Cr^(2+)= -0.4 V <br> Mn^(2+)|Mn = -1.2V Mn^(3+)|Mn^(2+) = +1.5 V <br> Fe^(2+)|Fe= -0.4 V Fe^(3+)|Fe^(2+) = -0.8 V. <br> उपर्युक्त आकड़ों के आधार पर निम्नलिखित पर टिप्पणी कीजिये- <br> (i) अम्लीय माध्यम में Cr^(3+) या Mn^(3+) की तुलना में Fe^(3+) का स्थायित्व <br> (ii) सामान प्रक्रिया के लिए क्रोमियम या मैगनीज धातुओं की तुलना में आयरन के ऑक्सीकरण में सुगमता|

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.
Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

2.5 K+

100+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
(i) जब किसी स्पीशीज का अपचयन विभव (इलेक्ट्रोड विभव) अधिक होता है तो इसके अपचयित होने की प्रवृत्ति अधिक होती है| `Mn^(+3)` का अपचयन विभव अधिकतकम है इसलिए यह आसानी से `Mn^(2+)` में अपचयित हो जाता है अतः `Mn^(+3), Fe^(+3)` से कम स्थायी होता है| लेकिन `Cr^(+3), Fe^(+3)` की तुलना में अधिक स्थायी है क्यूंकि `Cr^(+3)` का अपचयन विभव, `Fe^(+3)` के अपचयन वीभत्स से बहुत कम है| <br> (ii) जब किसी धातु आयन के इलेक्ट्रोड विभव (अपचयन विभव) का मान कम होता है तो उस धातु परमाणु की ऑक्सीकृत होने की प्रवृति होगी, अतः Mn की `Mn^(+2)` में ऑक्सीकृत होने की प्रवृति सर्वाधिक होगी तथा Fe की `Fe^(2+)` में ऑक्सीकरण की प्रवृति न्यूनतम होगी| इसलिए इनके ऑक्सीकृत होने का क्रम निम्न प्रकार होगा- `Mn gt Cr gt Fe`

संबंधित उत्तर

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details