logo
search
search
user
login
Login

किसी पदार्थ के एक अणु में 10^(-30) cm परिमाण का स्थायी विद्युत द्विध्रुव होता है। इस पदार्थ के एक मोल को 10^7 V m^(-1) परिमाण के प्रबल स्थिरविद्युत क्षेत्र को आरोपित करके ध्रुवित किया जाता है। क्षेत्र की दिशा को 60^@ के कोण के द्वारा परिवर्तित किया जाता है। पदार्थ के द्वारा इसके क्षेत्र की नई दिशा के अनुदिश इसके द्विध्रुव के समायोजन (Aligning) में मुक्त की गई ऊर्जा होती है -

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 14-2-2021

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

12.9 K+

600+

check-circle

लिखित उत्तर

`-6J``-3J``3J``6J`

Answer :
B
Solution :
प्रत्येक अणु का द्विध्रुव आघूर्ण = `10^(-30)` C m <br> चूँकि पदार्थ के 1 मोल में `6 xx 10^23` अणु होते हैं, इसलिए सभी अणुओं का कुल द्विध्रुव आघूर्ण, <br> `p=6xx10^23xx10^(-30)C m =6xx10^(-7)` C m <br> प्रारंभिक स्थितिज ऊर्जा, <br> `U_i=-pE cos theta` <br> `=-6xx10^(-7)xx 10^7 cos 0^@` <br> =-6J <br> अंतिम स्थितिज ऊर्जा, <br> `U_f=-6xx10^(-6) xx 10^6 xx cos 60^@` <br> =-3 J <br> किया गया कार्य=- [स्थितिज ऊर्जा में परिवर्तन] <br> =-[(-3)-(-6)]=-3 J

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details