logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Physics

>

Chapter

>

विद्युत चुंबकीय प्रेरण

>

किसी लम्बी परिनालिका के स्वप्र...

किसी लम्बी परिनालिका के स्वप्रेरकत्व हेतु व्यंजक ज्ञात कीजिए एवं बताइये कि यह किन-किन कारकों पर निर्भर करता है ?

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 30-3-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

1.7 K+

86

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
मानलो किसी परिनालिका की लम्बाई।, त्रिज्या तथा उसकी प्रति एकांक लम्बाई पर फेरों की संख्या n है तब परिनालिका में कुल फेरों की संख्या N = nl तथा उसके अनुप्रस्थ काट का क्षेत्रफल `A = pir^(2)` होगा। <br> यदि परिनालिका में I धारा प्रवाहित हो रही हो, तो परिनालिका के केन्द्र पर चुम्बकीय क्षेत्र की तीव्रता `B = mu_(0)nI`, जहाँ, `mu_(0)` निर्वात की चुम्बकशीलता है। <br> <img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/NAV_HIN_PHY_XII_C06_E05_020_S01.png" width="80%"> <br> यदि त्रिज्या की तुलना में परिनालिका की लम्बाई बहुत अधिक (I `gtgt`r) हो, तो उसके अन्दर प्रत्येक बिन्दु पर चुम्बकीय क्षेत्र की तीव्रता को एकसमान माना जा सकता है। <br> अत: परिनालिका से बद्ध चुम्बकीय फ्लक्स `phi`= NBA <br> या `phi=nlmu_(0)nIA=mu_(0)n^(2)lIA` <br> परन्तु स्वप्रेरकत्व `L=(phi)/I` <br> `thereforeL=(mu_(0)n^(2)lIa)/I` ....(1) <br> या `L=mu_(0)(N/l)^(2)lA,(becauseN=nl)` <br> या `L=mu_(0)(N^(2)A)/l` .....(2) <br> यदि परिनालिका के अन्दर क्रोड की चुम्बकशीलता `mu` हो, तो `L =(muN^(2)A)/l` ....(3) <br> यही लम्बी परिनालिका के स्वप्रेरकत्व के लिए व्यंजक है। <br> समी। (3) से स्पष्ट है कि किसी परिनालिका का स्वप्रेरकत्व निम्न बातों पर निर्भर करता है- <br> (i) परिनालिका के अनुप्रस्थ काट के क्षेत्रफल पर (अर्थात् त्रिज्या पर) - परिनालिका के अनुप्रस्थ काट का क्षेत्रफल बढ़ाने पर उसका स्वप्रेरकत्व बढ़ जाता है। <br> (ii) फेरों की संख्या पर-परिनालिका में फेरों की संख्या बढ़ाने पर उसका स्वप्रेरकत्व बढ़ जाता है। <br> (iii) परिनालिका की लम्बाई पर-परिनालिका की लम्बाई बढ़ाने पर उसका स्वप्रेरकत्व कम हो जाता है। <br> (iv) परिनालिका के क्रोड की चुम्बकशीलता पर -परिनालिका के अन्दर अधिक चुम्बकशीलता का क्रोड रखने पर उसका स्वप्रेरकत्व बढ़ जाता है । यही कारण है कि नर्म लोहे कि क्रोड वाली परिनालिका का स्वप्रेरकत्व वायु क्रोड वाली परिनालिका के स्वप्रेरकत्व से अधिक होता है। <br> त्रिज्या के पद में समी. (3) को निम्न प्रकार से लिखा जा सकता है- <br> `L=(mu_(0)N^(2)pir^(2))/l`

संबंधित वीडियो

play
306954418

2.4 K+

49.0 K+

2:30
play
320058369

24.6 K+

51.5 K+

3:53
play
127304520

1.2 K+

23.5 K+

7:31
play
291492491

600+

13.0 K+

6:31
play
127304595

600+

13.3 K+

5:46
play
234314320

9.2 K+

184.9 K+

6:04
play
226118523

2.4 K+

47.3 K+

5:09
play
127304403

4.0 K+

81.1 K+

2:15
play
320058206

1.6 K+

32.9 K+

3:38
play
127304513

2.2 K+

45.0 K+

6:09
play
226118811

2.6 K+

51.3 K+

3:17
play
293252277

1.4 K+

27.4 K+

4:12
play
306255899

1.9 K+

87.6 K+

3:54
play
306954401

5.3 K+

64.9 K+

2:20
play
306956217

2.9 K+

58.9 K+

5:33

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details