logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 10

>

Chemistry

>

Chapter

>

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण

>

जब लोहे की कील को कॉपर सल्फेट ...

जब लोहे की कील को कॉपर सल्फेट के विलयन में डुबोया जाता है तो विलयन का रंग क्यों बदल जाता है?

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 11-6-2021

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

500+

27

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
जब कॉपर सल्फेट विलयन लोहे के साथ क्रिया करता है तब निम्नलिखित अभिक्रिया होती है <br> `underset(("कॉपर सल्फेट"))(CuSO_(4)(sq))+ underset(("आयरन"))(Fe(s)) to underset(("फैरस/आयरन सल्फेट"))(FeSO_(4)(aq)) + underset(("कॉपर"))(Cu(s))` <br> कॉपर सल्फेट विलयन का रंग नीला होता है। लोहा तांबे से अधिक क्रियाशील होने के कारण तांबे को इसके लवण के विलयन से विस्थापित कर देता है। इसलिए फेरस सल्फेट के बनने के कारण नीला रंग समाप्त हो जाता है तथा हल्का हरा रंग बन जाता है।

संबंधित वीडियो

play
306954892

1.9 K+

37.7 K+

2:10
play
225674714

8.2 K+

164.8 K+

2:21
play
225661756

2.8 K+

56.9 K+

2:54
play
474018767

6.8 K+

93.8 K+

3:04
play
67774383

2.1 K+

42.9 K+

9:28
play
320059381

81.6 K+

112.1 K+

3:10
play
371320257

600+

33.6 K+

4:12
play
320058848

5.6 K+

112.1 K+

7:03
play
257785110

5.2 K+

105.0 K+

4:28
play
334964250

900+

32.3 K+

2:29
play
540836192

10

700+

4:25
play
334963478

7.9 K+

468.4 K+

5:14
play
334964734

1.6 K+

37.5 K+

6:39
play
142054235

300+

1.3 K+

8:52
play
334964679

10.7 K+

215.2 K+

5:41

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details