logo
search
search
user
login
Login
HomeHindiकक्षा 12PhysicsChapterगुरुत्वाकर्षण

एक ठोस गोला जिसका घनत्व एकसमान...

एक ठोस गोला जिसका घनत्व एकसमान तथा त्रिज्या R है, यह बिन्दु P पर स्थित एक कण पर F_(1) आकर्षण बल लगाता है, बिन्दु P की गोले के केन्द्र से दूरी 2R है। अब R/2 त्रिज्या का गोलीय छिद्र चित्रानुसार बनाया जाता है। बिन्दु P पर रखे कण पर अब छिद्र युक्त गोले द्वारा F_(2) आकर्षण बल लगाया जाता है। अनुपात F_(2)//F_(1) होगा <br> <img src="https://doubtnut-static.s.llnwi.net/static/physics_images/ARH_HIN_ASP_JEE_MN_PHY_C10_E02_002_Q01.png" width="80%">

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 20-4-2021

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

6.0 K+

300+

check-circle

लिखित उत्तर

`1//2``7//9`37

Answer :
B
Solution :
ठोस गोले के कारण गुरुत्वाकर्षण बल, `F_(1)=(GMm)/((2R)^(2))`, जहाँ M तथा m ठोस गोले व कण के द्रव्यमान हैं तथा R गोले की त्रिज्या है। कण पर छिद्र सहित गुरुत्वाकर्षण बल = ठोस गोले के कारण छिद्र पर बल। माना ये उपरोक्त स्थिति पर उपस्थित है। <br> `F_(2)=(GMm)/(4R^(2))-(G(M//8)m)/((3R//2)^(2))=7/36(GMm)/(R^(2))` <br> इसलिए, `(F_(2))/(F_(1))=(7GMm)/(3R^(2))//((GMm)/(4R^(2)))=7/9`

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details