logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Physics

>

Chapter

>

गतिमान आवेश और चुंबकत्व

>

एक आयताकार कुंडली जिसमे n फेरे...

एक आयताकार कुंडली जिसमे n फेरे है धारा I प्रवाहित हो रही है प्रत्येक का क्षेत्रफल A है, इसे एकसमान चुंबकीय क्षेत्र B में लटकाते है तब यह एक बल आघूर्ण का अनुभव करता है | taunIBAsin theta, जहाँ theta चुंबकीय क्षेत्र की दिशा का कुण्डली के तल के अभिलम्ब से बना कोण है साम्यावस्था में कुण्डली पर बल का मान शून्य है तथा बल आघूर्ण भी शून्य है अतः कुण्डली की स्थितिज ऊर्जा न्यूनतम है <br> उपरोक्त परिच्छेद को पढ़कर निम्न प्रश्नो के उत्तर दीजिए - <br> (i) किन स्थितियों में चुम्बकीय क्षेत्र में लटकी हुई कुण्डली पर अधिकतम व न्यूनतम बल आघूर्ण लगेगा ? <br> (ii) एक वृत्ताकार कुण्डली जिसमे फेरो की संख्या 100 त्रिज्या 5 सेमी तथा धारा 2A है इसे 0*20T के चुम्बकीय क्षेत्र में लटकाने पर यह कुण्डली के तल व क्षेत्र रेखा के साथ 60^(@) का कोण अंतरिक करता है अतः इसे मुड़ने से रोकने के लिए कितने बल आघूर्ण की आवश्यकता होगी ? <br> (iii)उपरोक्त अनुच्छेद किन जीवन मूल्यों को दर्शाता है ?

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 20-3-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

1.7 K+

84

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
(i) बल आघूर्ण `tau=nIBAsintheta` <br> `tau=0,sintheta=sin90^(@)=1` <br> `:.` न्यूनतम बल आघूर्ण `tau_(min)=0.IBAsintheta` <br> `=0,[becausesintheta=0^(@)]` <br> इस स्थिति में कुण्डली का तल चुंबकीय क्षेत्र के समान्तर है अब अधिकतम बल आघूर्ण `tau_(max)=nIBAsintheta` <br> `tau_(max)=nIBA[becausetheta90^(@)]` <br> (ii) `n=100,r=0*05` मी. `I=2A,B=0*20T` <br> `theta=90^(@)-60^(@)=30^(@)` <br> `:." "tau=nIBAsin theta=nIB(pir^(2))sin theta` <br> `=100xx2xx0*20[pixx(0*05)^(2)]xxsin30^(@)` <br> `=0*15Nm`. <br> (iii) उपरोक्त परिच्छेद से ज्ञात होता है की जब कुण्डली की स्थितिज ऊर्जा न्यूनतम होगी तब कुण्डली पर लगने वाला बल तथा बल आघूर्ण दोनों ही शून्य होगा । यह वास्तविक जीवन में पूर्णतः सत्यापित होता है अर्थात जो व्यक्ति दयालु तथा शांत होता है अपनी तारीफ़ स्वयं नहीं करता वह जीवन में एक सुखी व्यक्ति होता है क्योकि उस पर किसी तरफ का कोई तनाव या दवाब नहीं होता है ।

check-circle

चित्र समाधान

Find answer in image to clear your doubt instantly:

संबंधित वीडियो

play
320057988

6.8 K+

143.1 K+

4:01
play
320058483

3.0 K+

62.5 K+

5:38
play
306960266

4.1 K+

85.8 K+

3:32
play
334964674

700+

16.5 K+

4:37
play
226112785

93.7 K+

207.6 K+

8:27
play
127305133

11.7 K+

242.1 K+

2:10
play
306960470

1.8 K+

37.8 K+

6:59
play
320059381

48.6 K+

110.8 K+

3:10
play
226112789

5.9 K+

127.1 K+

8:27
play
320059274

10.1 K+

209.1 K+

4:10
play
320058848

101.4 K+

111.3 K+

7:03
play
306956206

4.9 K+

102.8 K+

4:51
play
226112721

8.5 K+

177.6 K+

8:58
play
293252218

6.5 K+

136.7 K+

3:11
play
226119081

700+

16.4 K+

3:50

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

नवीनतम वीडियो

Class 12th

गतिमान आवेश और चुंबकत्व

Class 12th

गतिमान आवेश और चुंबकत्व

Class 12th

गतिमान आवेश और चुंबकत्व

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details