logo
search
search
user
login
Login

दो बिंदु-आवेश + 4e तथा + e परस्पर a दूरी पर 'स्थिर' (fixed) है। एक तीसरे बिंदु-आवेश q को दोनों आवेशों को मिलाने वाला रेखा पर कहाँ रखे कि वह संतुलन में हो? किस दशा में यह संतुलन स्थायी होगा तथा किस में अस्थायी है?

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 21-1-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

82.8 K+

4.1 K+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
माना कि आवेशों `+4e` तथा `+e` के बीच स्थित संतुलित आवेश q की `+ 4e` से दूरी x है। स्पष्ट है कि इसकी आवेश `+e` से दूरी `(a - x)` होगी। माना कि आवेश q धन है। <br> <img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/NTN_HIN_PHY_XII_P1_C01_SLV_011_S01.png" width="80%"> <br> आवेश `+q` पर आवेश `+4e` के कारण वैद्युत (प्रतिकर्षण) बल <br> `F_(1) = (1)/(4pi epsi_(0)) (4e xx q)/(x^(2))` <br> इसी प्रकार, आवेश `+q` पर आवेश `++e` के कारण वैशयुत (प्रतिकर्षण) बल <br> `F_(2) = (1)/(4pi epsi_(0)) (e xx q)/((a - x)^(2))` <br> आवेश q के संतुलन के लिये `F_(1) = F_(2)` <br> `:. (1)/(4pi epsi_(0)) (4e xx q)/(x^(2)) = (1)/(4pi epsi_(0)) (e xx q)/((a - x)^(2))` <br> अथवा `4(a -x)^(2) = x^(2)` <br> अथवा `2(a - x) = +- x` <br> `:. x = (2a)/(3)` अथवा 2a <br> इनमे x का केवल `2a//3` मान सम्भव है क्योकि आवेश `+q` दोनों स्थिर आवेशों के बीच में है। अत: अंतुलन के लिये आवेश `+q` को दोनों आवेशों के बीच, आवेश `+4 e` से `2a//3` दूरी पर रखेंगे। <br> <img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/NTN_HIN_PHY_XII_P1_C01_SLV_011_S02.png" width="80%"> <br> हमने आवेश q धनात्मक माना है, यदि हम आवेश `+q` को संतुलन की स्थिति से थोड़ा-सा विस्थापित करें (माना की दायी ओर को) तो `F_(1)` बल का मान घट जायेगा तथा `F_(2)` का मान बढ़ जायेगा। अत: आवेश पर एक नैट बल `(F_(2) - F_(1))` बायीं ओर को कार्य करेगा, जिसके कारण आवेश पुन: अपनी संतुलन की स्थिति में लौट आयेगा। स्पष्ट है कि 'धन' आवेश `+q` का संतुलन स्थायी (stable) है। <br> यदि आवेश q ऋणात्मक है तब बल `F_(1)` व `F_(2)` आकर्षण -बल होंगे तथा उनकी दिशाएँ संलग्न चित्रानुसार होगी। आवेश `-q` अब भी संतुलन कि स्थिति में होगा। यदि हम इस आवेश को थोड़ा-सा दायी ओर को (माना) विस्थापित करें तो `F_(1)` का मान घटेगा तथा `F_(2)` का बढ़ेगा। अत: आवेश पर एक नैट बल `(F_(2) - F_(1))` कार्य करेगा परन्तु अब इसकी दिशा दायी ओर होगी। अत: आवेश और अधिक दायी ओर को विस्थापित होता जायेगा। स्पष्ट है कि 'ऋण' आवेश `-q` का संतुलन अस्थायी (unstable) है।

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details