logo
search
search
user
login
Login

ड्युटीरियम - ट्रीरियम अभिक्रिया <br> ""_1^2 H + "" _1 ^ 3 H to ""_2 ^ 4 H + ""_0 ^ 1 n में <br> (a) निम्नलिखित आँकड़ो का उपयोग कर अभिक्रिया में मुक्त ऊर्जा का मान ज्ञात करे | <br> m ( ""_1^2 H ) = 2.014102u, <br> m ( "" _ 1 ^ 3H) = 3.016049 u, <br> m (""_2^4 He) = 4.002603 u, <br> m _ n = 1.008665 u . <br> (b) ड्यूटीरियम तथा ट्रीटियम दोनों की प्रभावी त्रिज्य 2 fm मानकर कूलॉम प्रतिकर्षण से पार पाने के लिए आवशयक गतिज ऊर्जा की गणना करे | <br> (c) अभिक्रिया को प्रारम्भ करने के लिए गैसों की किस ताप तक गर्म किया जाता होगा ?

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 9-7-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

5.0 K+

4.4 K+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
ड्यूटीरियम - ट्रीटियम (D-T ) अभिक्रिया है : <br> ` ""_1^2 H + ""_1 ^ 3 H to ""_2 ^4 He +""_0^1 n + Q ` <br> (a) दृव्यमान- क्षति <br> ` Delta m = {m ( ""_1^2 H) + m ( ""_1 ^ 3H ) } - { m ( "" _ 2 ^ 4 H e) + m _ n } ` <br> ` = ( 2.014102 u + 3.016049u ) - ( 4.002603 u +1.008665u ) ` <br> ` = 0.018883 ` u <br> ` therefore ` मुक्त ऊर्जा, <br> ` Q = 0.018883 xx 931.5 MeV = 17.59 MeV`. <br> (b) यहाँ ड्यूटीरियम की प्रभावी त्रिज्या ` R _ 1 = 2 fm = 2 xx 10 ^( - 15 ) ` m <br> और ट्रीटियम की प्रभावी त्रिज्या `, R _ 2 = 2 fm = 2 xx 10 ^( - 15)`m <br> दोनों नाभिको के संस्पर्श की स्थिति में विद्युत् स्थितिज ऊर्जा के सूत्र, <br> ` U = ( 1 ) / ( 4pi in _ 0 ) ( Q _ 1 Q _ 2 ) / ( r ) ` से, <br> ` U = ( 1 )/ ( 4pi in_ 0 ) ( e ^ 2 ) / ( ( R_ 1 + R _ 2)) ` <br> ` = ( 9 xx 10 ^( 9) N m^2 C ^( - 2 ) ) ( ( 1.6 xx 10 ^( - 19) C ) ^ 2 )/ ( ( 2 xx 10 ^( -15 ) m + 2 xx 10 ^( - 15 ) m )) ` <br> ` = 5.76 xx 10 ^( - 14) J`. <br> D-T निकाय की यह स्थितिज ऊर्जा टक्कर (collision ) के पहले की नाभिको की कुल गतिज ऊर्जा के बराबर है | अतः नाभिको की आवश्यक गतिज ऊर्जा = ` 5.76 xx 10 ^ ( - 14 ) ` J . <br> (c) यदि दोनों निकाय गैसों का ताप T है, तो दोनों गैसों के प्रत्येक परमाणु की औसत गतिज ऊर्जा = ` ( 3 ) / ( 2 ) kT`, जहाँ k वोल्ट्जमान नियतांक है | <br> ` therefore ` दोनों परमाणुओं की कुल गतिज ऊर्जा = ` 2xx ( 3 )/ (2) kT = 3 kT ` . <br> परन्तु, नाभिक ( परमाणुओं ) की कुल गतिज ऊर्जा ` = 5.76 xx 10 ^( - 14 ) J ` <br> ` therefore T = ( 5.56 xx 10 ^( - 14 ) J ) / ( 3xx 1.38 xx 10 ^( - 23) JK^( - 1 ) ) = 1.39 xx 10 ^( 9 ) K `.

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

FAQs on नाभिक की संरचना : रेडियोएक्टिविटी

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details