logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Physics

>

Chapter

>

भौतिक विज्ञान-xii

>

बायोसावार्ट का नियम को लिखें ।...

बायोसावार्ट का नियम को लिखें । इस नियम का उपयोग कर सीधे धारावाही चालक के कारण चुम्बकीय क्षेत्र या चुम्बकीय प्रेरण का व्यंजक प्राप्त करें।

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 6-6-2021

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

2.2 K+

100+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
बायोसावार्ट का नियमः <br> कथन-धारावाही चालक के अल्पांश (small element) के कारण किसी बिंदु पर। चुम्बकीय क्षेत्र की तीव्रता (dB) का मान निम्न कारकों पर निर्भर करता है। <br> (i) चालक के प्रवाहित धारा (l) के अनुक्रमानुपाती होता है। <br> i.e. `dBpropdI` <br> चालक के अल्पांश की लंबाई (dl) के अनुक्रमानुपाती होता है। <br> i.e. `dBpropdI` <br> अल्पांश की लंबाई और बिंदु P से मिलने वाली रेखा के बीच कोण के ज्या के समानुपाती होता है। <br> i.e. `dBpropsintheta` <br> (iv) अल्पांश तथा बिंदु (P) के बीच की दूरी के वर्ग का व्युत्क्रमानुपाती होता है। <br> i.e. `dBprop(1)/(r^(2))` <br> अर्थात् `dBprop(Idlsintheta)/(r^(2))" "dB=(mu_(0))/(4pi)(Idlsintheta)/(r^(2))` <br> जहाँ `mu_(0)` = निर्वात की चुम्बकशीलता है। <br> बायोसावार्ट नियम का सदिश रूप `vec(AB)=(mu_(0))/(4pi)(Ivec(dl)xxvecr)/(r^(3))` <br> जहाँ `(mu_(0))/(4pi)=10^(-7)` <br> `("हेनरी")/("मीटर")`= स्थिरांक <br> <img src="https://doubtnut-static.s.llnwi.net/static/physics_images/MBD_HIN_XAM_SUC_GP_PHY_XII_E04_009_S01.png" width="80%"> <br> सीधे धारावाही चालक के कारण चुम्बकीय क्षेत्र या चुम्बकीय प्रेरण-माना कि EF एक लंबी तार है जिससे I मान की विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है। P एक बिंदु है जो तार के लम्बवत तथा x दूरी पर है। <br> `:.PM=x` <br> माना कि ये तार बहुत से छोटे-छोटे टुकड़ों से बना है। एक टुकड़ा DC पर विचार करते हैं जिसकी लंबाई dl है। <br> `:.CM=l` <br> माना कि `angleCPD=phi` <br> और `angleCPD=dphi,anglePDM=theta` <br> चूंकि dl बहुत छोटा है <br> इसलिए `anglePCM=theta` होगा। <br> CN, PD पर लंब डाला। <br> <img src="https://doubtnut-static.s.llnwi.net/static/physics_images/MBD_HIN_XAM_SUC_GP_PHY_XII_E04_009_S02.png" width="80%"> <br> बायोसावार्ट नियम से, <br> `dB=(mu_(0))/(4pi).(Idlsin(pi-theta))/(r^(2))` <br> `dB=(mu_(0))/(4pi)(Idlsintheta)/(r^(2))" "......(i)` <br> लेकिन `DeltaCND` में, `sintheta=(CN)/(CD)=(rdphi)/(dl)` <br> or, `rdphi=dlsintheta` <br> समीकरण (i) से, <br> `:.dB=(mu_(0))/(4pi)(rIdphi)/(r^(2))=(mu_(0))/(4pi)(Idphi)/(r)" "......(ii)` <br> फिर चित्र से, `cosphi=(x)/(r):.r=(x)/(cosphi)` <br> समीकरण (ii) से, `dB=(mu_(0))/(4pi)(Icosphi.dphi)/(x)` <br> यदि तार की लंबाई परिमित (infinite) है तब बिंदु P पर कुल चुंबकीय क्षेत्र <br> `B=int_(-beta)^(alpha)(mu_(0))/(4pi)(Icosphidphi)/(x)` <br> `B=(mu_(0))/(4pi)(I)/(x){sinphi]_(-beta)^(alpha)=(mu_(0))/(4pi)(I)/(x)[sinalpha+sinbeta]` <br> यदि तार की लंबाई अनंत है तब `alpha=beta=(pi)/(2)` <br> `:.B=(mu_(0))/(4pi)(I)/(x)[sin""(pi)/(2)+sin""(pi)/(2)]` <br> `B=(mu_(0))/(4pi)(I)/(x)(1+1)` <br> `B=(mu_(0))/(4pi)(2I)/(x)` <br> <br> <img src="https://doubtnut-static.s.llnwi.net/static/physics_images/MBD_HIN_XAM_SUC_GP_PHY_XII_E04_009_S03.png" width="80%">

संबंधित वीडियो

play
291492958

2.5 K+

51.2 K+

1:45
play
177254893

2.9 K+

4.6 K+

play
177250724

300+

7.2 K+

play
320057963

2.7 K+

57.0 K+

4:55
play
226115266

12.1 K+

60.8 K+

4:50
play
334964826

700+

16.0 K+

4:18
play
237169188

3.5 K+

71.2 K+

3:06
play
309337448

200+

5.0 K+

2:04
play
237142525

1.3 K+

26.4 K+

1:52
play
223424599

1.9 K+

38.7 K+

5:26
play
320058050

1.8 K+

4.3 K+

5:35
play
358834402

700+

16.0 K+

3:05
play
306960109

3.3 K+

68.8 K+

3:38
play
306255053

24.8 K+

29.1 K+

3:18
play
306960266

4.1 K+

85.3 K+

3:32

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details