Login
HomeHindiकक्षा 10PhysicsChapterप्रायोगिकी

क्या श्रेणी क्रम में संयोजन मे...

क्या श्रेणी क्रम में संयोजन में प्रतिरोध का समतुल्य प्रतिरोध संयोजन में भाग लेनेवाले किसी एक भी प्रतिरोधक के प्रतिरोध से कम हो सकता है?

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - BHARATI BHAWAN Class 10 प्रायोगिकी

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - BHARATI BHAWAN Class 10 PHYSICS

लिखित उत्तर

Solution :
नहीं, श्रेणी क्रम में संयोजन में समतुल्य प्रतिरोध का मान हमेशा अलग-अलग प्रतिरोध के प्रतिरोध से अधिक होता है।

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

दोस्तों को प्रश्न में दिया हुआ है कि क्या श्रेणी क्रम संयोजन में प्रतिरोध का समतुल्य प्रतिरोध संयोजन में भाग लेने वाले किसी भी एक प्रतिरोधक के प्रतिरोध से कम हो सकता है इसके लिए हम दो प्रकार की चीजें से समझ सकते इसको या तो हम ओम के नियम से समझ सकते हैं या फिर हम इसको चित्र देख कर ही समझ सकते हैं तो पहले मैं आपको चित्र देखकर समझाता हूं उसके बाद फिर ओम के नियम से भी इसको समझा दूंगा तो किसी चालक तार में प्रतिरोध क्या होता है प्रतिरोध का मान होता है रो एल व्हाई ए लो क्या होता है विशिष्ट प्रतिरोध क्या होता है तार की लंबाई अरे क्या होता है जो चेत्रफल है पृष्ठ का अब आप चित्र देख कर ही समझ सकते हैं कि यह चालक तार काले रंग से मैंने बनाया हुआ इसमें धारा बह रही है अब धारा वेरी तो उसके लिए क्षेत्रफल का मान क्या है यह अगर क्षेत्रफल है तो आगे अगर हम इसमें प्रतिरोध लगाए यह हरा रंग का मैंने प्रतिरोध लगाया है तो प्रतिरोध का क्षेत्रफल क्या हो जाएगा काम हो जाएगा 1 का मान क्या हो जाएगा इस बड़े ऐसे कम हो जाएगा तो प्रत्येक

कमल क्या हो जाएगा प्रतिरोध क्या होता है जो एक होता है मतलब क्षेत्रफल उसके व्युत्क्रम अनुपात है तो एक हमारा घर हम बड़ा है तो प्रतिरोध का मान कम हो जाएगा और सामान अगर हम घटाएं तो प्रतिरोध का मान क्या हो जाएगा बढ़ जाएगा तो हमने क्या किया यह एक को घटाया हुआ है चेत्रफल को पृष्ठ क्षेत्रफल को तो प्रतिरोध हमारा बढ़ गया है अभी यहां से क्या है धारा कम जाएगी अब यहां पर तो धारा कम जाए तो यहां पर धारा कम ही पहुंचेगी यहां मैंने और एक और प्रतिरोध अगर लगा दिया तो यह क्या होगा यह भी बाधा उत्पन्न करेगा धारा की बहने की दिशा में तो यहां से धारा और कम जाएगी आगे चालक तार में धारा कम जाएगी तो क्या होगा धारा अगर यहां पर ज्यादा है वह कम हुआ एक प्रतिरोध जोड़ने से दूसरे प्रतिरोध जोड़ने से क्या हो गया धारा और काम हो गया दूसरे प्रतिरोध जोड़ने सुधारक काम क्यों हो गया क्योंकि हमारे क्षेत्र पर है वह तो बदलने वाला है कि अगर दोनों प्रतिरोध का चेत्रफल सेम है तो सामान है इसका भी मालूम है और इसका भी मालूम है तो लंबाई क्या होगा लंबाई दुख ना हो जाएगा इसका लंबाई अगर

एल है तो इसका लंबाई बीएल होगा दोनों समान प्रतिरोध है अगर तू तो दोनों का लंबाई दुख ना हो जाने से क्या होगा जो प्रतिरोध है इस नियम से गर्म देखे तो प्रतिरोध क्या है एल के अनुक्रमानुपाती है एल को बढ़ाने से प्रतिरोध का मान बढ़ता है घटाने से घटता है तो हमने क्या किया एल कमान दोगुना कर दिया तो प्रतिरोध का मान 2 गुना हो जाएगा या एल का महानगर बढ़ा दिया तो प्रतिरोध का मन भर जाएगा इस तरीके से अगर हम देखे तो श्रेणी क्रम में क्या होता है पहले से जो प्रतिरोध लगा है उसको हम कम तो नहीं कर सकते अगर श्रेणी क्रम में जोड़ दिया तो एल का मान बढ़ा जरूर सकते हैं वेलकम अगर बढ़ेगा लंबाई का मन बढ़ेगा तो क्या हो गया प्रतिरोध के समतुल्य प्रतिरोध का मान बढ़ जाएगा तो एक भी प्रतिरोध के प्रतिरोध से कम हो सकता है नहीं हो सकता समांतर क्रम के बिना नहीं होगा श्रेणी क्रम में नहीं होगा प्रतिरोध कम तो नहीं हो सकता अब इसको हम समझते ओम के नियम से ओम का नियम क्या होता है विभांतर बराबर धारा गुना प्रतिरोध होता है

अब हम अगर चित्र में देखें मान लीजिए इन दोनों के बीच का विवाह अंतर क्या है विभांतर मैं मानता हूं इन दोनों के बीच का भी है ठीक है अभी भी 1 तरह दोनों के बीच तो प्रतिरोध में क्या बटेगा एक भी बंद हो जाएगा और एक हो जाएगा V2 दोनों प्रतिरोधों के बीच का विमानतल ठीक है दोनों ही मंत्र का योग करूंगा तो भी आएगा इसको मैं नीचे लिख सकता हूं क्यों का विमानतल जो का बड़ा वाला दोनों के बीच इन दोनों सिरों के बीच क्या होगा इस प्रतिरोध के सिर पर हूं अंतर और इस प्रकार उसके सिर पर में अंतर दोनों के योग V1 V2 अभी मंत्र क्या है धारा गुना प्रतिरोध धारा क्या है बहने वाली धारा अगर यह काम किया उसके बाद यह भी कम किया तो बहने वाली धारा का मान क्या हो गया अगर आई है छोटा आई तो यहां से भी आई ही बहेगा यह नहीं कि यहां से ज्यादा है या फिर यहां कम हुआ फिर यहां कम हुआ जब एक बार हम संयोजित कर लिए तो धारा बहने का मान जो होगा वही हमारा क्या रहेगा अंतिम बार रहेगा धारा उतनी ही बहेगी धारावाहिक जोगी

तू भी 1 का मान क्या होगा धारावी वंशिका बहने वाली है इस प्रतिरोध से R1 से आरोन प्रतिरोध में धारा बहने वाली बीमारी को अगर मैं और वनमानुष प्रतिरोध को हरीश प्रतिरोध को अल्टो अल्टो के लिए विमानतल B2 है और उनके लिए भी बंद है तू ही बन के लिए प्रतिरोध R1 हो जाएगा धारा तो आई बहेगी विमान से भी और बिट्टू से भी धारा ही बहेगी लेकिन विद्युत प्रतिरोध का मान r2 है अभी क्या है हम इसके समतुल्य प्रतिरोध ले रहे हैं कुल प्रतिरोध का कुल प्रतिरोध दोनों का हम क्या मान लेते हैं आज ही माल लेते हैं तो धारा भी इसमें समारोह की अवधारणा क्या है तीनों में सामान है तो आधी में मैं आई को बाहर निकाल दूं इसमें सीबीआई को बाहर निकाल देते क्या जाएगा और 1 गुना 1 बराबर आ रही हो जाएगा 2 गुना 1 बराबर आल्टो आईआई को मैं अगर कार्ड तो दोनों ही जगहों से दोनों पक्षों से तो आ रही मतलब तुल्य प्रतिरोध का मान क्या हो जाएगा R1 धन r2r बांद्रा टू तो क्या हो जाएगा पहले वाली जो प्रति रोते आगमन और दूसरा रूप और धातु दोनों के मान का

योग का बराबर होगा योग कर रहे हैं तो ऐसा हो ही नहीं सकता कि पहले वाली प्रतिरोध से कम हो जाए ठीक है दोस्तों प्रतिरोध ऋण आत्मक में नहीं होता ऋण आत्मक में होगा तभी हो सकता है ना कोई प्रतिरोध तो हो नहीं सकता इसलिए क्या होगा जो कथन दिया गया है कि कम हो सकता है यह कथन गलत है नहीं हो सकता नहीं हो सकता यही हमारा उत्तर दोस्तों धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details