Login

निम्न में कौन-सा प्रक्रम समतापी है तथा कौन-सा रुद्धोष्म है? (i) बर्फ का गलना, (ii) मोम का जमना, (iii) वायु में घ्वनि का संचरण, (iv) पूर्ण सुचालक सिलिण्डर में आदर्श गैस का प्रसार, (v) पूर्ण कुचालक सिलिण्डर में आदर्श गैस का प्रसार, (vi) जल का उबलना।

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

लिखित उत्तर

Solution :
(i) समतापी, (ii) समतापी, (iii)समतापी , (iv) समतापी, (v) रुद्धोष्म, (vi) समतापी।

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

देखे अपनी विभिन्न स्थिति यहां जैसे की बर्फ का गलना वायु में ध्वनि का संचरण पूर्ण सुचालक सिलेंडर में आदर्श गैस के प्रसार अगले बिंदु पर पूर्ण कुचालक चलेंगे में आदर्श गैस का प्रसाद तथा जल के उभरने की विभिन्न स्थितियों में हमें यह पता करना है कि यह कौन से प्रक्रम से संबंधित होते हैं यहां प्रक्रम की रूप में हमें समतापी कौन से प्रकरण विदेश में है यह हमें ज्ञात करना है जिसे समझने के लिए सबसे पहले यदि हम दो चीजों की चर्चा करें तो कौन से प्रक्रम समतापी होते होते हैं कौन से प्रक्रम धूप में होते हैं यह हमें देखना होता है समतापी प्रक्रम और उद्धव शतक राम को समझने के लिए हम एक छोटा सा आरिफ टिकते हैं के लिए हमें अलग-अलग आरेख बना है जहां समतापी प्रक्रम के अंतर्गत यदि कोई प्रकरण पर गैस या कोई भी माध्यम एक प्रक्रम से एक प्रक्रिया से ₹10 में जाती है तब हम उसे प्रक्रम क्या टेंशन तापी विक्रम चंद्र तिवारी तापमान पहले त्रिपाठी बने तथा अंतिम 52 है तब हम यह कह सकते हैं कि पूरे माध्यम के अंतर्गत तापमान सामान्य से कहने वाले 31 का मान टीटू के बरा

अर्थात यहां क्या सकते कोई निश्चित आपन के बराबर ऋतिक बिंदु पर होगा यहां पर तापमान में परिवर्तन तापमान में परिवर्तन बिल्कुल नहीं होता दूसरी स्थिति कि यदि बात करें हम सब यहां भी प्रक्रम एक से दो मेरी पहली स्थिति में हम तापमान t1 देखे हैं दूसरी स्थिति पर तापमान टीटू देखें इस पर तापमान में परिवर्तन हो सकता है पापा ने पर्यटन का मानसून नहीं होता हो सकता है कि पहली स्थिति और दूसरी स्थिति पर तापमान ज्यादा हो या अधिक हो यह स्थिति बन सकते हैं अतः बोल सकते हैं कि तापमान में परिवर्तन का मान यहां पर 0 नहीं होता क्योंकि यदि हम इसके अलावा उसमें की बात करें तब यहां पर समतापी प्रक्रम में यदि उसमें भी प्राप्त होती हैं जिसे हम कि उसे प्रदर्शित करते हैं तभी तापमान में पर्यटन नहीं होता उस मां के स्थानांतरण जहां रुद्धोष्म प्रक्रम हम यह विशेष रूप से देखा जाता है की उष्मा का स्थानांतरण बिल्कुल भी नहीं होता अर्थात यहां पर जो पद होते हैं बाहर की तरफ

ऊष्मा रोधी पर कम होती है उसमें उसमें उसमें का स्थानांतरण बिल्कुल भी एक पक्ष से या एक निकाल से बाहर परिवेश पर या परिवेश से निकाह पर नहीं हो सकता या चीज ध्यान देने वाली बात है अब हम प्रत्येक स्थिति की चर्चा करते हुए कि यदि पहले रकम में हमें दिया हुआ है बर्फ का गलना इसकी चर्चा यदि हम करें तो पहले से भी जहां बस का गलना इसी प्रकार पर आधारित है कि बर्फ की स्थिति यदि हम देखें बस एक ठोस अवस्था पर होती है जिस का तापमान सामान्य से दो डिग्री सेल्सियस होता है जहां यदि बर्फ का गलना अर्थात उसका पानी में परिवर्तित होना तापमान में परिवर्तन निश्चित नहीं है पापा ने पर्यटन नहीं होता बस जीरो डिग्री सेल्सियस से पानी के जरूरी की सबसे सुपरहिट परिवर्तित होती है अतः यहां तापमान परिवर्तन नहीं होता अपितु ठोस अवस्था से पानी का द्रव अवस्था में परिवर्तित होना अर्थ परिवर्तन अवस्था परिवर्तन पर केवल गुप्त ऊष्मा की बात होती है जहां तापमान में परिवर्तन नहीं होता यहां पर गुप्त ऊष्मा होगी हम कह सकते हैं यह प्रक्रम

समतापी प्रक्रम है गुप्त उसमें क्या सकता होती है बताइए परम संत पेपर का में दूसरी स्थिति की बात करें दूसरी स्थिति हमें दी हुई है व्रत का माफ कीजिएगा मोम का पिघलना का पिघलना हम जानते हैं उनकी स्थिति प्रारंभिक रूप से यदि ठोस की होती है कोई एक निश्चित मान होगा जिस पर वह पिघलता है इस स्थिति पर हम उसे 1 डिग्री सेल्सियस मान लेते हैं ठोस अवस्था से यदि वह पिघलता है मतलब पद्र अवस्था की ओर परिवर्तित होता है तभी हम उसके तापमान को समय का सामान मान सकते हैं केवल इस स्थिति में उस में पाकर के जिसको हम गुप्त ऊष्मा कहेंगे उसमें पाकर के मुंह में केवल ठोस अवस्था से गैस अवस्था में परिवर्तित होती है तो यहां अवस्था में परिवर्तन होता है जहां अवस्था में परिवर्तन होता है कृष्णा की बात होती है वह प्रकरण भी समतापी प्रक्रम होता है जहां तापमान में परिवर्तन सूर्य की ऊष्मा का स्थानांतरण यहां पर होता है हम यहां रुद्धोष्म प्रक्रम के बाद नहीं कर सकते

तीसरी स्थिति जो हमें भी हुई है प्रश्न के अनुसार वायु में ध्वनि का संचरण वायु में ध्वनि का संचरण चुके हम जानते हैं ध्वनि एक प्रकार की यांत्रिक तरंग है जिसके लिए हमें माध्यम क्या छुट्टी देश के संचालन के लिए हमें माध्यम की आवश्यकता होती है इस माध्यम की आवश्यकता के अंतर्गत यदि हम आने तक यह प्रक्रम रुद्धोष्म नहीं होगा कि कर दो चक्का में माध्यम से स्थानांतरण या किसी भी प्रकार का परस्पर मिलन नहीं होता है इसलिए हम इस पर कम को भी कह सकते हैं समतापी प्रक्रम तापमान की परिवर्तन होने से ध्वनि के संचरण पर कोई महत्व या कोई परिवर्तन नहीं होता है इसलिए हम कह सकते हैं प्रक्रम समतापी हैं साथ में प्रथम की थी बात तो थी स्थिति की बात करें सतीश तेरी पर दिया हुआ है कि पुणे सुचालक सिलेंडर में आदर्श गैस का प्रसार कार्य के अंतर्गत हमने एक सिलेंडर लिया हुआ है यह सिलेंडर सुचालक है अर्थात इसमें से

उस्मा का संचालन या ऊष्मा का स्थानांतरण अंदर की ओर या अंदर से बाहर की और ऊष्मा का स्थानांतरण हो सकता है इसी प्रकार यदि इसे अंदर भरी हुई जैसे प्रश्न में पूछा गया है किस ग्रंथ में प्रचार हो रहा है मतलब यहां पर इस पर गैस द्वारा कार्य किया जा रहा है इस स्थिति पर सुचालक है एवं गैस के द्वारा किए गए कार्य के कारण उसमें मैं यहां केवल ऊष्मा का स्थानांतरण होता है उस मां के स्थानांतरण से जिसे हम दिल क्यों कहते हैं का मानसून ही नहीं हो सकता परंतु यदि उस पर कुछ माह का संचालन होता है गैस का प्रसार होता है इस स्थिति पर उस मा पा करके गैस के प्रसाद से संबंधित यदि हम तापमान की चर्चा करें तक का पान का मान सम्मान हो सकता है विभिन्न स्थितियों पर इसलिए इसे नहीं कह सकते क्योंकि यहां पर उसमें का सांद्रण होता है अतः यह प्रक्रम भी समतापी प्रक्रम है पगली बिंदु वाली बिंदु की और हम भरते हैं अगले दिन तुम पर यह कहा गया है यदि पूर्ण कुचालक सिलेंडर है इसी स्थिति को हम फिर से यदि यहां पर लिखे तो अब की स्थिति

कुचालक की होती है कुचालक की स्थिति होने पर उस्मा का स्थानांतरण नहीं हो पाता उसमें किस तंत्र नहीं होने से हम उस पर कम पर उस पर क्रम को रोशन रकम क्या सकते हैं वह प्रक्रम जिसमें उस्मा का स्थानांतरण बिल्कुल ना हो उसे रुद्धोष्म प्रक्रम का जाएगा जहां ऊष्मा का स्थानांतरण का मानसून नहीं होता है रमेश अंतिम स्थिति पर जब जल का उभरना हमें भी लिया गया है चल के बल्ले की स्थिति उपाधि स्थिति पर होगी धरती पर उसका तापमान लगभग 100 डिग्री सेल्सियस होगा 100 डिग्री सेल्सियस से उसे व्यवस्था में परिवर्तन के लिए जहां भी प्रारंभिक रूप से उसका मांस व डिग्री सेल्सियस ही होगा यहां पर तापमान में परिवर्तन का मान सुने हैं जबकि यदि उसे द्रव अवस्था से ठोस अवस्था परिवर्तित किया जा रहा है मतलब उसे गुप्त ऊष्मा प्राप्त करनी होगी उसके लिए गुप्त ऊष्मा परिवर्तन जहां तापमान का मान अपमान पर केतन का मानसून नहीं होता है हमको तो से प्रदर्शित करते हैं इस स्थिति पर भी हम कह सकते हैं कि यह प्रक्रम समतापी होगा धन्यवाद प्रश्न में यही पूछा गया था विभिन्न स्तर पर प्रथम कौन-कौन से होंगे धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details