Home

>

Hindi

>

कक्षा 11

>

Chemistry

>

Chapter

>

रसायन विज्ञान

>

Mg(OH)-2 के विलयन में NH_(4)OH...

`Mg(OH)-2` के विलयन में `NH_(4)OH` डालने पर सफ़ेद अवक्षेप प्राप्त होता हैं, परन्तु `NH_(4)Cl` विलयन मिलाने के पस्चात `NH_(4)OH` डालने पर सफ़ेद अवक्षेप प्राप्त नहीं होता हैं, क्यों?

लिखित उत्तर

Solution : `NH_(4)Cl` की उपस्थिति में `NH_(4)OH` का वियोजन कम (सम-आयन प्रभाव) होने के कारण विलयन में `[OH^(-)]` का मान कम रहने के कारण `[Mg^(2+)][OH^(-)]^(2)` का मान `Mg(OH)_(2)` के `K_(sp)` से अधिक नहीं हों पाता, अतः `Mg(OH)_(2)` का अवक्षेपण नहीं होता।

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased