doubtnut_header_logo_white_new

अभिक्रिया 2NO2(g)N2O4(g) के लिए 298 K पर जब ΔS=176.0JK1 तथा ΔH=57.8kJ mol1 हो तो, इस अभिक्रिया के लिए ΔG के मान का परिमाण होगा है____ kJ mol1| (निकटतम पूर्णांक में)

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.
संबंधित वीडियो
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
298 K पर NO तथा O2 से NO2 बनती है।
NO(g)+12O2(g)NO2(g)
अभिक्रिया के लिए (क) ΔG एवं (ख) साम्य स्थिरांक की गणना कीजिए।
ΔfG[NO2]=52.0KJ/mol
ΔfG[NO2]=87.0KJ/mol
ΔfG[NO2]=0KJ/mol

110395689

4.9K05:53

298 K पर NO तथा O2 से NO2 बनती है।
NO(g)+12O2(g)NO2(g)
अभिक्रिया के लिए (क) ΔG एवं (ख) साम्य स्थिरांक की गणना कीजिए।
ΔfG[NO2]=52.0KJ/mol
ΔfG[NO2]=87.0KJ/mol
ΔfG[NO2]=0KJ/mol
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
k के किस मान के लिए सारणिक k243 का मान शुन्य होगा ?

293250574

9.6K01:10

k के किस मान के लिए सारणिक k243 का मान शुन्य होगा ?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
298 K पर NO एवं O2 से NO2 बनती है-
NO(g)+12O2(g)<NO2(g)
अभिक्रिया के लिए ΔG सीथरांक की गड़ना कीजिये-
ΔfG[NO2]=52.0 kJ/mol
Δf[NO]=87.0 kJ/mol
ΔfG[O2]=0 kJ/mol

94847071

1.9K05:25

298 K पर NO एवं O2 से NO2 बनती है-
NO(g)+12O2(g)<NO2(g)
अभिक्रिया के लिए ΔG सीथरांक की गड़ना कीजिये-
ΔfG[NO2]=52.0 kJ/mol
Δf[NO]=87.0 kJ/mol
ΔfG[O2]=0 kJ/mol
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
अभिक्रिया , 2SO2(g)+O2(g)2SO3(g) के लिए ΔH=57.2kJ mol1 तथा Kc=1.7×1016
निम्न में से कौन-सा कथन गलत है?

612641830

1.3K05:01

अभिक्रिया , 2SO2(g)+O2(g)2SO3(g) के लिए ΔH=57.2kJ mol1 तथा Kc=1.7×1016
निम्न में से कौन-सा कथन गलत है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
ग्लाइकोलाइसिस में ग्लूकोस के फोस्फोराइलेशन के लिए ΔGӨ का मान 13.8kjmol1है 298 K पर Kc का मान ज्ञात कीजिए करे ।

505778484

9.3K03:24

ग्लाइकोलाइसिस में ग्लूकोस के फोस्फोराइलेशन के लिए ΔGӨ का मान 13.8kjmol1है 298 K पर Kc का मान ज्ञात कीजिए करे ।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक फलन g जो प्रत्येक वास्तविक संख्या x>0 के लिए परिभाषित है तथा g(1)=1,g'(x2)=x3 को सभी x>0 के लिए सन्तुष्ट करता है, तो g (4) का मान है

358827611

8.7K04:50

एक फलन g जो प्रत्येक वास्तविक संख्या x>0 के लिए परिभाषित है तथा g(1)=1,g'(x2)=x3 को सभी x>0 के लिए सन्तुष्ट करता है, तो g (4) का मान है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
298K पर NO एवं O2 बनती है -
NO(g)12O2(g)NO2(g)
अभिक्रिया के लिए (क) ΔGӨएवं (ख) साम्य स्थिरांक की गणना कीजिए -
ΔrGӨ[NO2]=52.0KJ/mol
ΔrGӨ(NO)=87.0KJ/mol
ΔrGӨ[O2]=0KJ/mol

125701940

7.7K04:10

298K पर NO एवं O2 बनती है -
NO(g)12O2(g)NO2(g)
अभिक्रिया के लिए (क) ΔGӨएवं (ख) साम्य स्थिरांक की गणना कीजिए -
ΔrGӨ[NO2]=52.0KJ/mol
ΔrGӨ(NO)=87.0KJ/mol
ΔrGӨ[O2]=0KJ/mol
doubtnut_header_logo_white_new
TEXT SOLUTION
निम्नलिखित अभिक्रियाओं के आधार पर NO(g) के ऊष्मागतिक स्थायित्व पर टिप्पणी लिखिए।
12N2(g)+12O2(g)NO(g) ΔfH=90kJmol1
NO(g)+12O2(g)NO2(g) ΔfH=74kJmol1

505778231

4.1K

निम्नलिखित अभिक्रियाओं के आधार पर NO(g) के ऊष्मागतिक स्थायित्व पर टिप्पणी लिखिए।
12N2(g)+12O2(g)NO(g) ΔfH=90kJmol1
NO(g)+12O2(g)NO2(g) ΔfH=74kJmol1
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
स्थिर दाब पर 2.0×102kg नाइट्रोजन (कमरे के ताप पर) के ताप में 45C वृद्धि करने के लिए कितनी ऊष्मा की आपूर्ति की जानी चाहिए ? (N2 का अणुभार = 28, R=8.3Jmol1K1 )।

56703100

5.5K03:42

स्थिर दाब पर 2.0×102kg नाइट्रोजन (कमरे के ताप पर) के ताप में 45C वृद्धि करने के लिए कितनी ऊष्मा की आपूर्ति की जानी चाहिए ? (N2 का अणुभार = 28, R=8.3Jmol1K1 )।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
दिया गया है :
(i) C (ग्रेफाइट) +O2(g)CO2(g),ΔrH=xkjmol1
(ii) C (ग्रेफाइट) +12O2(g)CO(g),ΔH=ykJmol1
(iii) CO(g)+12O2(g)CO2(g),ΔrH=zkJmol1
उपर्युक्त ऊष्मारासायनिक समीकरणों के आधार पर बताइये कि नीचे दिय गये बीजगणितीय संबंधों में से कौनसा सही है

573845829

8.1K01:11

दिया गया है :
(i) C (ग्रेफाइट) +O2(g)CO2(g),ΔrH=xkjmol1
(ii) C (ग्रेफाइट) +12O2(g)CO(g),ΔH=ykJmol1
(iii) CO(g)+12O2(g)CO2(g),ΔrH=zkJmol1
उपर्युक्त ऊष्मारासायनिक समीकरणों के आधार पर बताइये कि नीचे दिय गये बीजगणितीय संबंधों में से कौनसा सही है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
अभिक्रिया N2(g)+3H2(g)2NH3,ΔH=92kJ में ताप वृद्धि में साम्यावस्था पर NH3 की सान्द्रता -

177250871

1.4K02:25

अभिक्रिया N2(g)+3H2(g)2NH3,ΔH=92kJ में ताप वृद्धि में साम्यावस्था पर NH3 की सान्द्रता -
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि पृथ्वी पर गुरुत्वीय त्वरण का मान 10 मी./से.^(2)   हो तथा पृथ्वी की त्रिज्या 6400 किमी. हो तो पृथ्वी के किस कोणीय वेग के मान के लिए वस्तु का भार भूमध्य रेखा पर शून्य होगा

306563428

2.2K04:24

यदि पृथ्वी पर गुरुत्वीय त्वरण का मान 10 मी./से.^(2)   हो तथा पृथ्वी की त्रिज्या 6400 किमी. हो तो पृथ्वी के किस कोणीय वेग के मान के लिए वस्तु का भार भूमध्य रेखा पर शून्य होगा
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
k का वह मान ज्ञात करें जिसके लिए दिए गए समीकरण के निकाय का अनंत हल हो।
x+(k+1)y=4,(k+1)x+9y=5k+2

480155081

8.4K04:25

k का वह मान ज्ञात करें जिसके लिए दिए गए समीकरण के निकाय का अनंत हल हो।
x+(k+1)y=4,(k+1)x+9y=5k+2
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
दिए हुए आँकड़ों का प्रयोग कर, C2H2 में एक CC बंध की बहुआबन्ध ऊर्जा (multiple bond energy kJ mol1) का परिकलन कीजिए। वह ऊर्जा निम्न है (C-H बंध की बन्धन ऊर्जा 350kJmol1 ले )
2C(s)+H2(g)C2H2(g) ΔH=225kJmol1
2C(s)2C(g) ΔH=1410kJmol1
H2(g)2H(g) ΔH=330kJmol1

559603517

1.5K05:25

दिए हुए आँकड़ों का प्रयोग कर, C2H2 में एक CC बंध की बहुआबन्ध ऊर्जा (multiple bond energy kJ mol1) का परिकलन कीजिए। वह ऊर्जा निम्न है (C-H बंध की बन्धन ऊर्जा 350kJmol1 ले )
2C(s)+H2(g)C2H2(g) ΔH=225kJmol1
2C(s)2C(g) ΔH=1410kJmol1
H2(g)2H(g) ΔH=330kJmol1
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्नलिखित अभिक्रियाओं को 1000C पर लेते हैं
(A) Zn(s)+12O2(g)ZnO(s),ΔG=360kJmol1
(B) C(g)+12O2(g)CO(g),ΔG=460kJmol1
तो 1000C पर सही कथन को चुनिये

559603634

4.8K05:37

निम्नलिखित अभिक्रियाओं को 1000C पर लेते हैं
(A) Zn(s)+12O2(g)ZnO(s),ΔG=360kJmol1
(B) C(g)+12O2(g)CO(g),ΔG=460kJmol1
तो 1000C पर सही कथन को चुनिये