doubtnut_header_logo_white_new

एक विधुत द्विध्रुव को वलय के केंद्र से R/2 दूरी पर एकसमान रूप से आवेशित वलय की अक्ष पर रखा जाता है। द्विध्रुव आघूर्ण की दिशा अक्ष के अनुदिश है। द्विध्रुव आघूर्ण P है, वलय का आवेश Q है और वलय की त्रिज्या र है। द्विध्रुव पर बल लगभग है:

लिखित उत्तर

A
4kPQ33R2
B
4kPQ33R3
C
2kPQ33R3
D
शून्य
Answer
The correct Answer is D
Solution
x=R2 पर, वलय के कारण विद्युत क्षेत्र अधिकतम है। एक असमान क्षेत्र में द्विध्रुव पर बल F=pdEdx है, लेकिन उच्चिष्ठ बिंदु पर, dEdx=0
इसका मतलब है कि F = 0
adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased
संबंधित वीडियो
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
4×109Cm द्विध्रुव आघूर्ण का कोई विद्युत द्विध्रुव 5×104NC1 परिमाण के किसी एकसमान विद्युत क्षेत्र की दिशा से 30 पर संरेखित है। द्विध्रुव पर कार्यरत बल आघूर्ण का परिमाण परिकलित कीजिये।

54862183

3.7K03:10

4×109Cm द्विध्रुव आघूर्ण का कोई विद्युत द्विध्रुव 5×104NC1 परिमाण के किसी एकसमान विद्युत क्षेत्र की दिशा से 30 पर संरेखित है। द्विध्रुव पर कार्यरत बल आघूर्ण का परिमाण परिकलित कीजिये।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक अतिपरवलय बिन्दुओं (3,2) तथा (-17,12) से गुजरता है और उसका केंद्र मूलबिन्दु पर है तथा अनुप्रस्थ अक्ष x- अक्ष है। अतिपरवलय की अनुप्रस्थ अक्ष की लम्बाई है।

358825777

7.8K02:42

एक अतिपरवलय बिन्दुओं (3,2) तथा (-17,12) से गुजरता है और उसका केंद्र मूलबिन्दु पर है तथा अनुप्रस्थ अक्ष x- अक्ष है। अतिपरवलय की अनुप्रस्थ अक्ष की लम्बाई है।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक अतिपरवलय का केंद्र मूलबिंदु पर है तथा यह बिन्दु (4,2) से होकर जाता है और इसका अनुप्रस्थ (transverse) अक्ष X-अक्ष के अनुदिश है जिसकी लम्बाई 4 है तो इस अतिपरवलय की उत्केन्द्रता (eccentricity) है

334964250

3.3K02:29

एक अतिपरवलय का केंद्र मूलबिंदु पर है तथा यह बिन्दु (4,2) से होकर जाता है और इसका अनुप्रस्थ (transverse) अक्ष X-अक्ष के अनुदिश है जिसकी लम्बाई 4 है तो इस अतिपरवलय की उत्केन्द्रता (eccentricity) है
doubtnut_header_logo_white_new
TEXT SOLUTION
निम्नलिखित कॉलम को सुमेलित कीजिये
-I -II(A) ि (p) ि ि ि ि (B) ि ω ि (q) (C) ि i(r) (ि)(D)i=i0cosωt(s) ि -

584175805

7.9K

निम्नलिखित कॉलम को सुमेलित कीजिये
-I -II(A) ि (p) ि ि ि ि (B) ि ω ि (q) (C) ि i(r) (ि)(D)i=i0cosωt(s) ि -
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?

334964539

3.2K04:06

माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक वृत्त X-अक्ष पर एक जीवा काटता है जिसकी लम्बाई 4a है तथा यह वृत्त Y-अक्ष के एक बिन्दु से होकर जाता है जिसकी मूलबिंदु से दुरी 2b है , तो वृत्त के केन्द्र का बिन्दुपथ (locus) है

334964516

10K04:26

एक वृत्त X-अक्ष पर एक जीवा काटता है जिसकी लम्बाई 4a है तथा यह वृत्त Y-अक्ष के एक बिन्दु से होकर जाता है जिसकी मूलबिंदु से दुरी 2b है , तो वृत्त के केन्द्र का बिन्दुपथ (locus) है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
परवलय x2=8y पर एक स्पर्श रेखा,जो X-अक्ष की धनात्मक दिशा के साथ कोण θ बनती है, का सभीकरण है

334964674

6.4K04:37

परवलय x2=8y पर एक स्पर्श रेखा,जो X-अक्ष की धनात्मक दिशा के साथ कोण θ बनती है, का सभीकरण है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि R त्रिज्या का एक वृत्त मूलबिंदु O से होकर जाता है तथा निर्देशांक अक्षो को A और B पर कट्टा है , तो O से रेखा AB पर डाले गए लम्ब के पाद का बिन्दुपथ है

334964734

9.7K06:39

यदि R त्रिज्या का एक वृत्त मूलबिंदु O से होकर जाता है तथा निर्देशांक अक्षो को A और B पर कट्टा है , तो O से रेखा AB पर डाले गए लम्ब के पाद का बिन्दुपथ है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक द्विध्रुव 10 सेमी लम्बा तथा आवेश 500μC से बना है। इसके अक्ष से 25 सेमी दूरी पर विद्युत क्षेत्र की तीव्रता होगी

388841605

7.5K08:10

एक द्विध्रुव 10 सेमी लम्बा तथा आवेश 500μC से बना है। इसके अक्ष से 25 सेमी दूरी पर विद्युत क्षेत्र की तीव्रता होगी
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
उस बिंदु का बिन्दुपथ ज्ञात कीजिए
जिसकी x-अक्ष से दूरी उसकी y-अक्ष से दूरी की तीन गुनी है ।

226118499

8.9K02:06

उस बिंदु का बिन्दुपथ ज्ञात कीजिए
जिसकी x-अक्ष से दूरी उसकी y-अक्ष से दूरी की तीन गुनी है ।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक बिंदु P, x-अक्ष पर और एक अन्य बिंदु Q, y-अक्ष पर स्थित है। (i) बिंदु P की कोटि ज्ञात कीजिए।

408054313

1.7K01:50

एक बिंदु P, x-अक्ष पर और एक अन्य बिंदु Q, y-अक्ष पर स्थित है। (i) बिंदु P की कोटि ज्ञात कीजिए।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
बिंदु (18, 5, 12) की X-अक्ष से पर लंबवत्त दुरी........ है |

226114375

1.6K02:12

बिंदु (18, 5, 12) की X-अक्ष से पर लंबवत्त दुरी........ है |
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि वृत्त के केंद्र से 3 सेमी. की दूरी पर स्थित जीवा की लम्बाई 8 सेमी. है, तो वृत्त की त्रिज्या ज्ञात कीजिए।

441540850

10K02:52

यदि वृत्त के केंद्र से 3 सेमी. की दूरी पर स्थित जीवा की लम्बाई 8 सेमी. है, तो वृत्त की त्रिज्या ज्ञात कीजिए।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
उस वृत्त का समीकरण जिसका केन्द्र x-अक्ष पर है तथा त्रिज्या 4 है। और जो मूल बिन्दु से होकर जाता है, होगा

642665181

2.4K02:44

उस वृत्त का समीकरण जिसका केन्द्र x-अक्ष पर है तथा त्रिज्या 4 है। और जो मूल बिन्दु से होकर जाता है, होगा
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
उस वृत्त का समीकरण जिसका केन्द्र x-अक्ष पर है तथा त्रिज्या 4 है। और जो मूल बिन्दु से होकर जाता है, होगा

642664824

2.2K02:17

उस वृत्त का समीकरण जिसका केन्द्र x-अक्ष पर है तथा त्रिज्या 4 है। और जो मूल बिन्दु से होकर जाता है, होगा
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि एक अतिपरवलय के संयुग्मी अक्ष (conjugate axis) की लम्बाई 5 है तथा इसकी नाभियो के बीच की दुरी 13 है, तो इस अतिपरवलय की उत्केंद्रता है

334964535

7.4K03:33

यदि एक अतिपरवलय के संयुग्मी अक्ष (conjugate axis) की लम्बाई 5 है तथा इसकी नाभियो के बीच की दुरी 13 है, तो इस अतिपरवलय की उत्केंद्रता है