doubtnut_header_logo_white_new

सोडियम धातु की साफ सतह पर I तीव्रता एवं λ तरंगदैर्घ्य के प्रकाश के आपतन से E गतिज ऊर्जा के N इलेक्ट्रॉनों की प्राप्ति होती है , तब

लिखित उत्तर

A
Nl एवं l
B
Nl एवं E1λ
C
Nλ एवं El
D
N1λ एवं E1l
Answer
The correct Answer is B
Solution
NI
fλ प्रकाश की गति [यहाँ f आवृत्ति है ]
F1λ
अतः EfE1λ
adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased
संबंधित वीडियो
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि किसी धातु पर जिसका कार्य-फलन (work function) verphi है, आपतित प्रकाश की आवृत्ति v है, तो उत्सर्जित फोटोइलेक्ट्रॉन की महत्तम गतिज ऊर्जा E जिस संबंध से प्राप्त होती है, वह है।

95021895

5.8K02:17

यदि किसी धातु पर जिसका कार्य-फलन (work function) verphi है, आपतित प्रकाश की आवृत्ति v है, तो उत्सर्जित फोटोइलेक्ट्रॉन की महत्तम गतिज ऊर्जा E जिस संबंध से प्राप्त होती है, वह है।
doubtnut_header_logo_white_new
TEXT SOLUTION
िr,Li^(2+) के प्रथम कक्षक की त्रिज्या होगी :

94844805

3.7K

िr,Li^(2+) के प्रथम कक्षक की त्रिज्या होगी :
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
CH3COOC2H5, C_2H_5MgBr की अधिकता के साथ जलअपघटन पर देता है

565340317

8K04:21

CH3COOC2H5, C_2H_5MgBr की अधिकता के साथ जलअपघटन पर देता है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
अंकों 1,2,3,4 से 4 अंकों की संख्या बनाई जाती है जिसमें अंकों की पुनरावृत्ति नहीं हो सकती है, तब संख्या के विषम होने की प्रायिकता है

371320783

6.2K02:27

अंकों 1,2,3,4 से 4 अंकों की संख्या बनाई जाती है जिसमें अंकों की पुनरावृत्ति नहीं हो सकती है, तब संख्या के विषम होने की प्रायिकता है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
किसी अक्ष के पारितः जड़त्व आघूर्ण 1.2ि2 है। इस प्रारम्भ में पिण्ड विराम में है । 1500 जूल की घूर्णन गतिज ऊर्जा उप्तन्न करने के लिए 25 रेडियन/"से"^(2) के त्वरण को पर निम्न समय के लिए आपरोपित करना होगा

95050979

5.4K03:05

किसी अक्ष के पारितः जड़त्व आघूर्ण 1.2ि2 है। इस प्रारम्भ में पिण्ड विराम में है । 1500 जूल की घूर्णन गतिज ऊर्जा उप्तन्न करने के लिए 25 रेडियन/"से"^(2) के त्वरण को पर निम्न समय के लिए आपरोपित करना होगा
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
द्विघात बहुपद ax2+bx+c के आलेख की आकृति किस प्रकार की प्राप्त होती है?

291492555

7.7K02:43

द्विघात बहुपद ax2+bx+c के आलेख की आकृति किस प्रकार की प्राप्त होती है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक वस्तु पूर्व दिशा की ओर 30 मी/से के वेग से जा रही है। 10 सेकण्ड के बाद यह वस्तु 40 मी/से के वेग से उत्तर की ओर गति करती है। वस्तु का औसत त्वरण है-

645691059

7.8K03:25

एक वस्तु पूर्व दिशा की ओर 30 मी/से के वेग से जा रही है। 10 सेकण्ड के बाद यह वस्तु 40 मी/से के वेग से उत्तर की ओर गति करती है। वस्तु का औसत त्वरण है-
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
E और F दो स्वतंत्र घटनाएं है। E और F दोनों के घटित की प्रायिकता 112 और दोनों में से किसी के भी घटित न होने की प्रायिकता 12 है तब

320186411

3.5K04:21

E और F दो स्वतंत्र घटनाएं है। E और F दोनों के घटित की प्रायिकता 112 और दोनों में से किसी के भी घटित न होने की प्रायिकता 12 है तब
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?

334964539

3.2K04:06

माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक घन के विकर्ण की लम्बाई 123 सेमी है। घन के कोर की लम्बाई .............होगी।

407372327

8.8K01:18

एक घन के विकर्ण की लम्बाई 123 सेमी है। घन के कोर की लम्बाई .............होगी।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक व्दिपरमाणुक अणु m_(1) "तथा" m_(2) के दो द्रव्यमानों से बना है जो कि दूरी r पर है । यदि कोणीय संवेग क्वाण्टीकरण के बोर के नियम को लगाकर हम इसकी घूर्णन ऊर्जा की गणना करें , तब इसकी ऊर्जा दी जाएगी (n एक पूर्णाक है )

265956562

4.5K07:56

एक व्दिपरमाणुक अणु m_(1) "तथा" m_(2) के दो द्रव्यमानों से बना है जो कि दूरी r पर है । यदि कोणीय संवेग क्वाण्टीकरण के बोर के नियम को लगाकर हम इसकी घूर्णन ऊर्जा की गणना करें , तब इसकी ऊर्जा दी जाएगी (n एक पूर्णाक है )
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
वर्गीकृत आंकड़ों की 'से कम प्रकार' और 'से अधिक प्रकर' की संचयी बारम्बारता वक्रों के प्रतिच्छेद बिन्दु के 'भुज' से प्राप्त होता है आंकड़ों का----

643324927

9.3K01:53

वर्गीकृत आंकड़ों की 'से कम प्रकार' और 'से अधिक प्रकर' की संचयी बारम्बारता वक्रों के प्रतिच्छेद बिन्दु के 'भुज' से प्राप्त होता है आंकड़ों का----
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
अभिक्रिया (A+B) के लिये निम्न आँकड़े प्राप्त हुए |
इन आँकड़ों से A एवं B के सन्दर्भ में अभिक्रिया की कोटि तथा सम्पूर्ण अभिक्रिया की कोटि का निर्धारण कीजिए।

309497737

5.9K05:10

अभिक्रिया (A+B) के लिये निम्न आँकड़े प्राप्त हुए |
इन आँकड़ों से A एवं B के सन्दर्भ में अभिक्रिया की कोटि तथा सम्पूर्ण अभिक्रिया की कोटि का निर्धारण कीजिए।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
पतली फ़िल्म में दो बिंदुओं a और b के बीच 6000Å तरंगदैर्घ्य के प्रकाश से 6 फ्रिंजे दिखाई पड़ती हैं । यदि प्रकाश का तरंगदैर्घ्य 4500Å हो , तो उन्हीं बिंदुओं के मध्य कितनी फ़्रिजें दिखाई पड़ेंगी ?

112165748

9.4K03:51

पतली फ़िल्म में दो बिंदुओं a और b के बीच 6000Å तरंगदैर्घ्य के प्रकाश से 6 फ्रिंजे दिखाई पड़ती हैं । यदि प्रकाश का तरंगदैर्घ्य 4500Å हो , तो उन्हीं बिंदुओं के मध्य कितनी फ़्रिजें दिखाई पड़ेंगी ?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि वृत्त के केंद्र से 3 सेमी. की दूरी पर स्थित जीवा की लम्बाई 8 सेमी. है, तो वृत्त की त्रिज्या ज्ञात कीजिए।

441540850

10K02:52

यदि वृत्त के केंद्र से 3 सेमी. की दूरी पर स्थित जीवा की लम्बाई 8 सेमी. है, तो वृत्त की त्रिज्या ज्ञात कीजिए।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि एक अतिपरवलय के संयुग्मी अक्ष (conjugate axis) की लम्बाई 5 है तथा इसकी नाभियो के बीच की दुरी 13 है, तो इस अतिपरवलय की उत्केंद्रता है

334964535

4.7K03:33

यदि एक अतिपरवलय के संयुग्मी अक्ष (conjugate axis) की लम्बाई 5 है तथा इसकी नाभियो के बीच की दुरी 13 है, तो इस अतिपरवलय की उत्केंद्रता है