doubtnut_header_logo_white_new

ऑक्साइड आयन O2(g) का ऑक्सीजन परमाणु से बनने के लिये पहले ऊष्माक्षेपी एवं बाद में ऊष्माशोषी पद नीचे दिये गये हैं: -
O(g)+eO(g),ΔfHө=141kJ mol1
O(g)+eO2(g),ΔfHө=+780kJ mol1
गैसीय O2 का बनना प्रतिकूल है यद्यपि O2 निऑन का समइलेक्ट्रॉनी है। यह किस तथ्य के कारण है?

ADVERTISEMENT
adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Updated On: 27-06-2022

लिखित उत्तर

A
अक्रिय गैस के विन्यास प्राप्ति के कारण स्थायित्व से, इलेक्ट्रॉन प्रतिकर्षण प्रभावशाली होता है
B
O आयन का आकार ऑक्सीजन परमाणु की तुलना में छोटा होता है
C
ऑक्सीजन ज्यादा वैधुतऋणात्मक है
D
ऑक्सीजन में इलेक्ट्रॉन के योग से आयन का आकार बड़ा होता है
Answer
The correct Answer is A
Solution
यद्यपि अक्रिय गैस विन्यास प्राप्ति द्वारा इलेक्ट्रॉन प्रतिकर्षण स्थायित्व से प्रभावशाली होता है | अत: गैस प्रावस्था में O2 का निर्माण प्रतिकूल होता है |

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

संबंधित वीडियो