Login
HomeHindiकक्षा 12PhysicsChapterJee Main Test 16

द्रव्यमान m का एक गुटका A, बल ...

द्रव्यमान m का एक गुटका A, बल नियतांक k की स्प्रिंग की मदद से छत से लटकने के बाद साम्यावस्था में है। m द्रव्यमान का गुटका B,u चाल के साथ गुटके A से टकराता है और इससे चिपक जाता है। u का वह मान क्या है, जिसके लिए स्प्रिंग केवल अपनी प्राकृतिक लंबाई प्राप्त करती है? <br> <img src="https://doubtnut-static.s.llnwi.net/static/physics_images/NTA_HIN_JEE_MN_TST_16_E01_010_Q01.png" width="80%">

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

`sqrt((6mg^(2))/(k))``sqrt((3mg^(2))/(k))``sqrt((2mg^(2))/(k))``sqrt((mg^(2))/(2k))`

Answer :
A
Solution :
माना संघट्ट के ठीक बाद संयुक्त निकाय का वेग u है, तब रेखीय संवेग संरक्षण का उपयोग करके हमें mv=2mu मिलता है, <br> `implies u= (u)/(2)` <br> स्प्रिंग का प्रारंभिक विस्तार <br> `x= (mg)/(k)` <br> अब, यांत्रिक ऊर्जा संरक्षण का उपयोग करके हम प्राप्त करते हैं <br> `(1)/(2) 2m (v)^(2)+ (1)/(2) kx^(2) = 2mgx` <br> `m ((u^(2))/(4))+(m^(2)g^(2))/(2k)= (2m^(2) g^(2))/(k)` <br> `u = sqrt((6mg^(2))/(k))`

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

हेलो धर्मेंद्र कुमार का एयरपोर्ट का बल नियतांक के स्प्रिंग की मदद से छप छप से लटकने के बाद श्याम अवस्था में है रहमान का गुटका इसका प्रमाण के साथ उठके टकराता है इससे चिपक जाता है वह मान क्या है इसके लिए स्कूल केवल अपनी प्राकृतिक लंबाई प्राप्त करती है तो देखे हम चित्र बनाते यहां पर छाता है और यह स्प्रिंग की मदद से हमने एक उसके को ऐसे लटका हुआ है इसका प्रमाण है देखेगी साम्यावस्था में है मतलब इस पर बल का मान जीरो है यहां पर हम मानते हैं यहां तक कि प्राकृतिक लंबाई है नेचुरल मानते हैं नोट नीचे आ गया है इतना खिंचाव हो गया है और इतना ऊंचा हो गया है इसका मतलब है एप्पल क्या लगेगा ऊपर की तरफ तो लगेगा कि एक सुनो

और नीचे लग रहा होगा हम पर बना रहे हैं अभी पता चल गया कि प्रारंभ में स्प्रिंग में कितना सीट है इसका प्रमाण भी आपकी इच्छा है स्प्रिंग है और अब भी जब इस से चिपक जाएगा तो इन दोनों का निर्माण हो जाएगा मिल कर दो है यह है यहां के प्राकृतिक लंबाई और यहां से कितना नीचे है नोटिस में खिंचाव है और यह दोनों कितने

बिग से ऊपर जा रहे हैं जा रहे हैं टकराने के बाद इनकी संरक्षित कर दो पहले क्या था शिरडी के पास अब कितना हो गया है 2 एमबी तो यहां से हमारे पास भी काम आ गया यू बटे दो एक बटे दो से ऊपर नीचे की तरफ उर्जा संरक्षित रहेगी तो पहले जो इनकी कुल ऊर्जा है इस समय और अंतिम वह बराबर है कहां तक जाएगा यहां पर बिक जाएगा तो वहां तक पहुंचाना है मैं तो पहले ऊर्जा क्या है गतिज ऊर्जा तो है एक बटे दो दो बार

भी स्क्वायर यह हमने निकाल लिया प्लस स्पिन के पास स्थितिज ऊर्जा कितना है एक बटे दो के एक्स स्क्वायर और कितना एक्स का मान एमजी बटे के तो यह आ जाएगा एम जी पटेल के स्वयं के पास गुरुत्वीय स्थितिज ऊर्जा जाएगी 2mg और कितना ऊपर गए हैं एक्सपोर्ट एम जी पटेल के तो यहां से देखिए क्या आएगा हमारे पास दो यह तो आया एम यू स्क्वायर बटा 4 प्लस 1 कितना आएगा ही आएगा एम स्क्वायर स्क्वायर बटा 2 के और इधर आएगा 2:00 एम स्क्वायर जी स्क्वायर बटे के हमें तो

निकालना है तो यहां से हो जाएगा इसको आप इधर ले आओ तो यह 3 स्क्वायर जी स्क्वायर बटा 2 के तो यहां पर 42 से कट के यहां पर तो आ जाएगा एमसीएम कट जाएगा स्क्वायर का माना जाएगा 6mg स्क्वायर बटे k4u का मान कितना आ जाएगा यू का माना जाएगा अंडर रूट 6 एमजी स्क्वायर पटेल के चैन जिसका पति के पहला उत्पन्न होते हैं

संबंधित वीडियो

226112721

1.0 K+

9.9 K+

8:58
एक निर्माणकर्ता का मानना है की पुरुष और महिला मजदूरों की दक्षता समान होती है| अतएव वह उन्हें एक ही दर से मजदूरी देता है| उसके पास 30 मात्रक (units ) मजदूर और 17 मात्रक पूंजी है| जिसका वह A और B दो प्रकार के माल के उत्पादन में प्रयोग करते है|A के एक मात्रक उत्पादन में 2 मजदूर और 3 मात्रक पूंजी आवश्यकता है, जबकि B के एक मात्रक उत्पादन में 3 मजदूर और 1 मात्रक पूंजी आवश्यक है| A के एक मात्रक का मूल्य रु 100 तथा B के एक मात्रक का मूल्य रु 120 है | वह अपने साधनो का उपयोग किस प्रकार करें ताकि अधिकतम आय हो? क्या आप निर्माणकर्ता के इस दृष्टिकोण (विचार) से सहमत है की पुरुष और महिला मजदूरों की क्षमता समान होती है अतएव उन्हें एक ही दर से मजदूरी देनी चाहिए?
Show More
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details