Login
HomeHindiकक्षा 12PhysicsChapterModel Paper 2021

तरंग स्त्रोत के प्रेक्षक से दू...

तरंग स्त्रोत के प्रेक्षक से दूर जाने के कारण तरंगधैर्य में वृद्धि को ........ कहते है।

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - MP BOARD - PREVIOUS YEAR PAPERS Class 12 MODEL PAPER 2021

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - MP BOARD - PREVIOUS YEAR PAPERS Class 12 PHYSICS

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

उसने मेरे पास है कि तरंग शोध किए परीक्षक से दूर जाने के कारण तरंग याद में होने वाली वृद्धि को खाली स्थान कहते हैं जहां में रिक्त स्थान की पूर्ति करनी है तो देखिए अगर यहां पर तरंग की बात की जा रही तो तरंग के लिए हमारे पास अलग-अलग तरंगे होती हैं जैसे कि अगर हम यहां पर बात कर सकते हैं ध्वनि तरंगों की और साथ ही साथ हम बात कर सकते हैं प्रकाश तरंगों की ठीक है अगर दोनों के अनुसार भी हम देखें तो हमें जब स्रोत और जो प्रेक्षक होता है सोता सोता जो होते हैं उनके मध्य जो भी आपेक्षिक गति होती है तो उसके कारण आतंकवाद में परिवर्तन होता है और तरंग धर्म परिवर्तन के संगत आपबीती में परिवर्तन होता है इस तरह से अगर हम बात करें ध्वनि तरंगों के लिए इसे समझाने के लिए तो दुनिया में ऐसे और शुल्क के तौर पर और यहां पर ऑब्जर्वर है कि हम परीक्षा कहते हैं ठीक है अभी के अभी हम यह कहें कि सो जो है वह ध्वनि उत्पन्न करेगा करेगा तो उसके आवेदन देने वाली है कि समय पर पर अगर यहां पर जो सोच है और सोता है यह दोनों अगर अपनी जगह से नहीं हटे आपेक्षिक गति नहीं करते हैं तो जो सोता है उसे प्राप्त होने वाली या परीक्षा को प्राप्त होने वाली जो आवृत्ति होगी

समान होगी मतलब जितनी आवृत्ति शोध उत्पन्न करेगा उतनी हां मृत्यु प्राप्त करेगा लेकिन अगर हम यह कहें कि माली जी धोनी संचरण का वह जो हमेशा किसके किसके आगे रहेगा रहेगा परीक्षा की ओर हमेशा अशोक यहां पर हम शोध के लिए उसके वीको प्रदर्शित करें तो वीएस और यशोदा के लिए उसके वीको प्रदर्शित करें तो भी नोट्स अगर हम प्रदर्शित कर रहे हैं और दोनों में से किसी एक के मध्यम गति हो रही है या दोनों के अध्यापक से गति अगर होती है तो आरती में होने वाले परिवर्तन को जो कि परीक्षा को प्राप्त होता है एंड डस्टर पर हम पर शक करते हैं तो एंड एस का मन होगा क्या इंडस का मन होगा वास्तविक आवृत्ति का मान और यहां पर हम देखते हैं तो धोनी संचरण का अभी किसके साथ पिक देखा जाता है पहले तो यहां पर अपेक्षा के सापेक्ष देखा जाता है तो उसे भी नॉर्थन कहते हैं जबकि इधर देखे तो धड़के सा पिक देखा जाता है की एक तरह से क्या हुआ आभासी आवृत्ति का मन हुआ परावती के संगतिया गरम अंतरंग डेट की मांग को भी देख लेंगे यहां पर लिखा था देखेंगे तो क्या लिखा जा सकता है

जितने भी बठिंडा डिस्टिक में और यमन बन जाएगा यहां पर भी बठिंडा ठीक है और यह मत फिर से वही रहता है विनोद और नीचे देख नीचे केवी अविकानगर हमले ब्लाकमान देखिए यहां पर चली लंदन हम देखें तो कितना हो जाएगा मगर हम देखते हैं कि हमारे पास बन जाएगा bs1v धन रवि नोट ग्रुप में ठीक है यह हमें तरंग की मांग को प्रदर्शित करता है कि तरंग शोध की परीक्षा से दूर जाने पर तरंग शोध के स्रोतों से दूर जाने पर तंग याद में वृद्धि होती है क्या यह देखते हैं देखें अगर आप रक्षक जो वहां पर मौजूद है माली जी विराम अवस्था में हो और जो सोच है वह दूर जा रहा हूं तो दूर जा रहा हूं श्वेता का दूजा रहा है तो हमने कुछ ऐसे लिखा और जो थोड़ी शंका वैभवी है तो दोनों के लिए दिया मंत्रात्मक हो गए यहां पर लंबा देश का मान अगर हम देखें तो वह क्या हो जाएगा लौंडा ठीक है यह जो मारा या भी आ जाएगा इस ग्रुप में और

अगर हम ने यह कहा है कि परीक्षक वहां पर क्या मौजूद है विराम अवस्था में है तो हमारे पास यह सूत्र बन जाएगा भी अब इस तरह से हम देख रहे हैं कि लौंडा का मान जो वास्तविक मानता ठीक है वास्तविक संगत का मन था और फिलाडेल्फिया भाजी तिरंगे का अपमान है और अपाचे तरंग याद में क्या हो रही है वृद्धि हो रही है हमें यहां से दिख रहा है कि लंदन देश का मान जो कि ज्यादा है लिंडा की अपेक्षा ठीक है इस तरह से बात करें तो अभी यहां पर कम होती है यहां पर हम कहेंगे कि एंड एक्स का मान यहां पर क्या हो जाएगा कम हो जाएगा इनके अपेक्षा इसी स्थिति पर जब आवत है वह परीक्षक से दूर जा रहा हूं ठीक है तो यहां पर जो बोला जा रहे की रंगत में वृद्धि को हम क्या कहें जो तरंगे आदमी परिवर्तन होता है तो इन सब स्थितियों को जिसमें शोध और सुता के मध्य में अगर आपेक्षिक गति होती है तो शुरु से निकलने वाली ध्वनि तरंग की आवृत्ति आतंकी जो आती है परीक्षा को वही सुनाई ना दे करके या वही प्रकाश प्राप्त ना हो कर के अगर हम प्रकाश तरंगों की बात करें तो तरंग के लिए जो उसका तरंगदैर्ध्य तरंगदैर्ध्य परिवर्तन प्राप्त होता है अगर आज तू जो है तू

जा रहा है तो तरंग बाद में वृद्धि होती है तो इस प्रकार के परिवर्तन को हम क्या कहते हैं इस प्रकार के परिवर्तन को हम डॉप्लर प्रभाव कहते हैं ठीक है तो यह सभी डॉप्लर प्रभाव के ही कारण है या डॉप्लर प्रभाव के अफेक्ट्स है तो इस विधि को हम क्या कहेंगे इस पति को हम डॉक्टर का प्रभाव कहीं थैंक यू

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details