Home

>

Hindi

>

कक्षा 11

>

Chemistry

>

Chapter

>

परमाणु संरचना

>

वक्तव्य I कृष्णिका एक आदर्श पि...

वक्तव्य I कृष्णिका एक आदर्श पिंड है जो सभी आवृत्ति के विकिरणों को उत्सर्जित एवं अवशोषित करती है। <br> वक्तव्य II ताप में वृद्धि होने पर पिंड द्वारा उत्सर्जित विकिरण की आवृत्ति निम्न आवृत्ति से उच्च आवृत्ति की ओर जाती है।

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased

Updated On: 27-06-2022

लिखित उत्तर

वक्तव्य । सत्य है, वक्तव्य ॥ सत्य है: वक्तव्य ||, वक्तव्य । का सही स्पष्टीकरण है। वक्तव्य । सत्य है, वक्तव्य ॥ सत्य है, वक्तव्य ॥, वक्तव्य । का सही स्पष्टीकरण नहीं है। वक्तव्य । सत्य है, वक्तव्य ।। असत्य है। वक्तव्य । असत्य है, वक्तव्य ।। सत्य है।

Answer : B
Solution :  वह पिण्ड जो अपने ऊपर डाले गए समस्त विकिरणों को अवशोषित तथा उत्सर्जित करता है, आदर्श कृष्ण पिण्ड कहलाता है। ताप में वृद्धि के साथ, आवृत्ति बढ़ती है।

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

हेलो 100 का प्रश्न है यहां वक्तव्य में दे रखा है कृष्ण का एक आदर्श फ्रेंड है जो सभी आवृत्ति के विकलांगों को उत्सर्जित एवं अवशोषित करती है वक्त पर दो में दे रखा है ताप में वृद्धि होने पर पेंट द्वारा उत्सर्जित वितरण की आवृत्ति निम्न आवर्ती से उच्च आवृत्ति की ओर जाती है तो चलिए इस प्रश्न को हल करते हैं तो दोस्तों कृष्ण का क्या है कृष्ण का एक ऐसा पेड़ होता है जो कि अपने ऊपर पड़ने वाले सभी आवृत्ति चाहे किसी भी आवृत्ति का प्रकाश हो उसको अवशोषित कर लेगा और अगर दोस्तों कृष्ण का अधिक ताप पर है तो वह सभी प्रकार की आकृतियों के विकलांगों को उत्सर्जित भी कर सकता है तो इसे यहां में लिख दे दो प्रश्न का एक आदर्श फ्रेंड है जो सभी प्रकार की आवृत्ति ओके विक्रम को उत्सर्जित भी करता है और उन्हें अवशोषित भी कर सकता है अब कृष्ण का इसका मतलब ऐसा नहीं है कि जो प्रिंट काला है मतलब काले रंग का अगर कोई भी हमारा पिंड है वही कृष्ण आदर्श कृष्णिका कहलाएगा

ऐसा नहीं होता है दोस्तों कोई भी प्रिंट चाहे उसका रंग कोई भी हो किसी प्रकार का रंग हो ठीक है अगर वह सभी प्रकार की आवृत्ति को उसका अवशोषित कर सकता है और उन्हें उत्सर्जित करता है तो वह आदर्श कृष्णिका कहलाएगा जैसे कि आप सूर्य है सूर्य हमारा एक कृष्ण का है आदर्श कृष्णिका पेंट है पहला कहलाता है सूर्य कभी सूर्य से आप देखेंगे कि सभी प्रकार की आवृत्ति ओके विक्रम उत्सर्जित होते हैं तो इसी प्रकार सूर्य को एक आदर्श पैकिंग का माना गया है ठीक है यह आदर्श कृष्णिका वह का उदाहरण है सूर्य हरियाणवी बकता में एक सत्य हो गया दूसरे वक्त में दे रखा है किताब में वृद्धि होने पर पेंट द्वारा उत्सर्जित वितरण की आवृत्ति निम्न आवर्ती से उच्च आवृत्ति की ओर जाती है तो वक्तव्य दो भी दोस्तों सत्य है कि अगर यहां पर तापमान और आवृत्ति तापमान इसका मतलब क्या हुआ दोस्तों तापमान और आवृत्ति एक दूसरे के समानुपाती होंगे आवृत्ति आवृत्ति एक दूसरे के क्या होंगे समानुपाती होंगे अगर यहां पर

दोस्तों पिंड का तापमान आप बुलाएंगे तो आवृत्ति क्या होगी आवृत्ति भी बढ़ेगी जो प्रकाश उत्सर्जित हो रहा है उसकी आवृत्ति भी निम्न आवृत्ति से उच्च आवृत्ति की ओर जाएगी और अगर दोस्तों यहां तापमान कम कर देंगे आप अगर यहां पर तापमान आपने कम कर दिया तो आवृत्ति जो उत्सर्जित प्रकाश की आवृत्ति है वह उच्च आवृत्ति से निम्न आवर्ती की ओर जाने लगेगी तो यहां पर वक्तव्य दोगी तो सत्य है परंतु वक्तव्य दो जो है वह वक्तव्य की स्पष्टीकरण नहीं कर रहा है क्योंकि क्रश्निका दोस्तों यह अपने आप में एक ऐसा पेड़ है जो सभी प्रकार के वितरण को उत्सर्जित अवशोषित कर सकता है परंतु इसका तापमान से कोई भी लेन-देन नहीं है कृष्ण काका क्योंकि सूर्य है सूर्य एक आदर्श कृष्णिका है ठीक है सूर्य एक आदर्श कृष्णिका है अब इसके यहां पर परंतु तापमान और आवृत्ति तापमान का कोई भी संबंध नहीं आ रहा है कृष्ण का के संबंध में ठीक है अब जैसे कि हमारा काला तब आप मान लीजिए तो उसको आप एक कृष्ण का मान सकते हैं क्योंकि जब आप उसको

कर्म करेंगे तो उससे अलग अलग प्रकार की आवृत्ति ओके विक्रण उत्सर्जित होते हैं उसको आप कृष्ण का मान सकते हैं लगभग कृष्ण की तरह व्यवहार करता है तो कृष्ण का क्या है एक प्रकार से आपने पिंड के लिए कोई भी हमारा फ्रेंड है उसके लिए एक प्रकार से मानक तय कर दिया है कि यहां इस प्रकार से अगर विंडो उत्सर्जित करता है प्रकाश को तभी वह क्या कहलायेगा आदर्श कृष्णिका कहलाएगा परंतु तापमान का और आदर्श टीका का संबंध कुछ भी नहीं है तो यानी वक्तव्य एक सत्य है वक्तव्य दो सत्य है और वक्तव्य दो मतलब एक का सही स्पष्टीकरण नहीं है ये हमारे प्रश्न का उत्तर होगा ऐसे में लिख दे रहा हूं कमबख्त अबे एक सत्य है बता भी दो सत्य है बता भी दो वक्तव्य का सही स्पष्टीकरण नहीं आई हमारे प्रश्न का सही उत्तर होगा विकल देख लेते हैं पहले भी कल में दे रखा है दोस्तों हमें यहां पहले भी कल में दे रखा है वक्त आप एक सत्य है वक्तव्य जो भी सत्य है वक्तव्य दो वक्तव्य का सही स्पष्टीकरण है यह गलत विकल्प है दूसरे भी कल में दे रखा वक्त आप एक सत्य है वक्तव्य दो

सत्य है वक्त आने दो वक्त आने का सही स्पष्टीकरण नहीं है यह बिल्कुल सही विकल्प का दूसरा विकल्प तीसरे भी कल में दे रखा है यहां पर वक्तव्य एक सत्य है वक्तव्य दो वह सत्य है यह गलत विकल्प है चौथे भी कल में दे रखा बता बे का सत्य है वक्तव्य तो सत्य है यह भी गलत विकल्प है तो आशा करता हूं आपको यह समझ में आया होगा धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More