doubtnut_header_logo_white_new

कोई इलेक्ट्रॉन (द्रव्यमान m) जिसका प्रारंभिक वेग v=v0ˆi है, किसी विद्युत क्षेत्र E=E0ˆj में गतिमान है। λ0=hmv0 है, तो इस इलेक्ट्रॉन की t क्षण पर दे-ब्रॉग्ली तरंगदैर्ध्य है -

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased

Updated On: 27-06-2022

लिखित उत्तर

A
λ0
B
λ0 1+e2E20t2m2v20
C
λ01+e2E20t2m2v20
D
λ0(1+e2E20t2m2v20)
Answer
The correct Answer is C

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

हेलो आज का मानसून कोई इलेक्ट्रॉनिक कब तक मानसून है प्रारंभिक भी है बीच में कितने वर्ग किलोमीटर अंदर क्या होगी
बिका घटक b1 बराबर हो गया तू किसी कमेटी प्रखंड के बैक के दो बटन में छत्तीसगढ़ तंत्र योगा उधर की बात करते हैं विनोद अंकित रखकर qm98n क्योंकि झूठ के अंदर विनोद थैंक यू नॉट बी का होल स्क्वायर स्क्वायर जी की आबादी
ब्लूटूथ बंद कर नोटिस का 29 जनवरी का मटका 220 पत्ती लड़कियों को
इलेक्ट्रॉनिक
संबंधित वीडियो
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
m द्रव्यमान का इलेक्ट्रॉन (आवेश q ) एकसमान वैद्युत क्षेत्र E में विरामावस्था से त्वरित होता है। सिद्ध कीजिए कि x दूरी तय करने में इलेक्ट्रॉन द्वारा अर्जित वेग 2qExm होगा।
माना इलेक्ट्रॉन द्वारा x दूरी तय करने में अर्जित वेग v है, तब v2=02+2ax=2Fmx
परन्तु F=qE V=2qExm

67773894

8.2K02:19

m द्रव्यमान का इलेक्ट्रॉन (आवेश q ) एकसमान वैद्युत क्षेत्र E में विरामावस्था से त्वरित होता है। सिद्ध कीजिए कि x दूरी तय करने में इलेक्ट्रॉन द्वारा अर्जित वेग 2qExm होगा।
माना इलेक्ट्रॉन द्वारा x दूरी तय करने में अर्जित वेग v है, तब v2=02+2ax=2Fmx
परन्तु F=qE V=2qExm
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
किसी नैज अर्धचालक में ऊर्जा अंतराल Eg का मान 1.2eV है। इसकी होल गतिशीलता इलेक्ट्रॉन की गतिशीलता की तुलना में काफी कम है तथा ताप पर निर्भर नहीं है। इसकी 600K तथा 300K पर चालकताओं का क्या अनुपात है? यह मानिए कि नैज वाहक सांद्रता ni की ताप निर्भरता इस प्रकार व्यक्त होती है-
ni=n0 exp (Eg2kBT)
जहां n0 एक स्थिरांक है।

54862521

8.1K09:40

किसी नैज अर्धचालक में ऊर्जा अंतराल Eg का मान 1.2eV है। इसकी होल गतिशीलता इलेक्ट्रॉन की गतिशीलता की तुलना में काफी कम है तथा ताप पर निर्भर नहीं है। इसकी 600K तथा 300K पर चालकताओं का क्या अनुपात है? यह मानिए कि नैज वाहक सांद्रता ni की ताप निर्भरता इस प्रकार व्यक्त होती है-
ni=n0 exp (Eg2kBT)
जहां n0 एक स्थिरांक है।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
कोई फलन किसी बिन्दु x = a पर अवकलनीय कहलता है, जब -

234315517

2K01:45

कोई फलन किसी बिन्दु x = a पर अवकलनीय कहलता है, जब -
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
दिये गये चित्र में छायांकित भाग निम्न सुसंगत क्षेत्र को दर्शाता है -

तो प्रतिबन्ध है -

320058040

4.3K04:11

दिये गये चित्र में छायांकित भाग निम्न सुसंगत क्षेत्र को दर्शाता है -

तो प्रतिबन्ध है -
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक परवलय की नाभि मूलबिंदु पर है तथा रेखा x=2 परवलय की नियता है , तो परवलय का शीर्ष है

127305133

7.7K02:10

एक परवलय की नाभि मूलबिंदु पर है तथा रेखा x=2 परवलय की नियता है , तो परवलय का शीर्ष है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
किसी वृत्त में एक चाप केन्द्र पर 45का कोण बनाता है। यदि चाप की लम्बाई 11 सेमी है तो वृत्त की त्रिज्या ज्ञात कीजिए।

407372252

10K02:01

किसी वृत्त में एक चाप केन्द्र पर 45का कोण बनाता है। यदि चाप की लम्बाई 11 सेमी है तो वृत्त की त्रिज्या ज्ञात कीजिए।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि किसी धातु पर जिसका कार्य-फलन (work function) verphi है, आपतित प्रकाश की आवृत्ति v है, तो उत्सर्जित फोटोइलेक्ट्रॉन की महत्तम गतिज ऊर्जा E जिस संबंध से प्राप्त होती है, वह है।

95021895

4K02:17

यदि किसी धातु पर जिसका कार्य-फलन (work function) verphi है, आपतित प्रकाश की आवृत्ति v है, तो उत्सर्जित फोटोइलेक्ट्रॉन की महत्तम गतिज ऊर्जा E जिस संबंध से प्राप्त होती है, वह है।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
कोई फलन f(x) किसी बिन्दु x2 पर निम्निष्ठ है , तो f''(x2)..

234316322

3.1K02:10

कोई फलन f(x) किसी बिन्दु x2 पर निम्निष्ठ है , तो f''(x2)..
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
143 K पर , XeF4 और O2F2 की अभिक्रिया से एक जीनॉन (xenon) यौगिक Y उत्पादित होता है संपूर्ण अणु Y में एकांकी इलेक्ट्रॉन युग्म (lone paris of electrons) की कुल संख्या है...........

364568513

7.5K01:25

143 K पर , XeF4 और O2F2 की अभिक्रिया से एक जीनॉन (xenon) यौगिक Y उत्पादित होता है संपूर्ण अणु Y में एकांकी इलेक्ट्रॉन युग्म (lone paris of electrons) की कुल संख्या है...........
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?

334964539

2.4K04:06

माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि एक दीर्घवृत्त जिसका केंद्र मूलबिंदु पर है, के दीर्घ कक्ष तथा लघु कक्ष कि लम्बाइयों का अंतर 10 है तथा एक नाभिकेन्द्र (0,53) पर है, तो इसके नाभिलम्ब की लम्बाई है

334963624

8.9K03:14

यदि एक दीर्घवृत्त जिसका केंद्र मूलबिंदु पर है, के दीर्घ कक्ष तथा लघु कक्ष कि लम्बाइयों का अंतर 10 है तथा एक नाभिकेन्द्र (0,53) पर है, तो इसके नाभिलम्ब की लम्बाई है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक दीर्घवृत्त जिसका केन्द्र मूलबिंदु पर है, की उत्केंद्रता 12 है। यदि उसकी एक नियता x=-4 है, तो उसके बिन्दु (1,32) पर उसके अभिलम्ब का समीकरण है

334963505

6.6K05:37

एक दीर्घवृत्त जिसका केन्द्र मूलबिंदु पर है, की उत्केंद्रता 12 है। यदि उसकी एक नियता x=-4 है, तो उसके बिन्दु (1,32) पर उसके अभिलम्ब का समीकरण है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
माना एक वृत्त है जिसका केन्द्र परवलय y2=2px की नाभि पर है, तथा यह वृत्त परवलय की नियता को स्पर्श करता है, तो वृत्त व परवलय का प्रतिच्छेद बिंदू है

358825634

9.9K05:40

माना एक वृत्त है जिसका केन्द्र परवलय y2=2px की नाभि पर है, तथा यह वृत्त परवलय की नियता को स्पर्श करता है, तो वृत्त व परवलय का प्रतिच्छेद बिंदू है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एकसमान विद्युत क्षेत्र E=3×103ˆi(N)/C पर विचार कीजिये ।
(a) इस क्षेत्र का 10 cm भुजा के वर्ग के उस पार्श्व से जिसका तल yz तल के समांतर है, गुजरने वाला फ्लक्स क्या है ?
(b) इस वर्ग से गुजरने वाला फ्लक्स कितना है यदि इसके तल का अभिलंब x- अक्ष से 60 कोण बनता है ?

54862189

3.6K09:03

एकसमान विद्युत क्षेत्र E=3×103ˆi(N)/C पर विचार कीजिये ।
(a) इस क्षेत्र का 10 cm भुजा के वर्ग के उस पार्श्व से जिसका तल yz तल के समांतर है, गुजरने वाला फ्लक्स क्या है ?
(b) इस वर्ग से गुजरने वाला फ्लक्स कितना है यदि इसके तल का अभिलंब x- अक्ष से 60 कोण बनता है ?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि एक वक्र बिंदु (1, -2) से होकर जाता है तथा इस पर किसी बिंदु (x, y) पर स्पर्श रेखा का ढाल (slope) x22yx है, तो यह वक्र निम्न में से किस बिंदु से होकर जाता है ?

334964679

5.1K05:40

यदि एक वक्र बिंदु (1, -2) से होकर जाता है तथा इस पर किसी बिंदु (x, y) पर स्पर्श रेखा का ढाल (slope) x22yx है, तो यह वक्र निम्न में से किस बिंदु से होकर जाता है ?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
परवलय y=x22x+5 की जीवा दो बिन्दुओं जिनकी कोटि है, x1=1,x2=3 को जोड़ती है, तो इस जीवा के है, को जोड़ती है , तो इस जीवा के समान्तर परवलर की स्पर्श रेखा का समीकरण होगा

371320257

7.1K04:12

परवलय y=x22x+5 की जीवा दो बिन्दुओं जिनकी कोटि है, x1=1,x2=3 को जोड़ती है, तो इस जीवा के है, को जोड़ती है , तो इस जीवा के समान्तर परवलर की स्पर्श रेखा का समीकरण होगा