Getting Image
Please Wait...
Login
Register now for special offers
+91

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Biology

>

Chapter

>

पुष्पीय पादपों की आकारिकी

>

निम्न कथनों में से पुष्पक्रम क...

Updated On: 27-06-2022

Video Solution: निम्न कथनों में से पुष्पक्रम का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य होता है

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo and get the answer completely free,

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

बीजों के प्रकीर्णन में बड़ी संख्या में बीजों के निर्माण में परागकणों के निर्माण में पराग के प्रकीर्णन में

Answer : B
Solution : एक समय पर अधिक पुष्पों का परागण होगा तो अधिक फलों का उत्पादन होगा |

Loading Books

उत्तर

Step by step video solution for [object Object] by Biology experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 12 exams.

Question Details till 09/08/2022

Question
Chapter Nameपुष्पीय पादपों की आकारिकी
SubjectBiology (more Questions)
Class12th
Type of AnswerVideo
Question Language
In Video - Hindi
In Text - Hindi
Students Watched6.4 K +
Students Liked0 +
Question Video Duration3m49s

Transcript

हेलो डियर फ्रेंड वेलकम टू यू एक अपना क्वेश्चन है निम्न कथनों में से पुष्पक राम का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य होता है उत्तर अपन बात करें भी तो देखें पुष्पा वर्ली वृत्त पर पुष्पों की व्यवस्था पुष्प कर्म कहलाती है तो पुष्पा वाले व्रत पर पशुओं की व्यवस्था उस कंकाल आती है और पुष्प में नर जनन अंग के रूप में उमंग और मादा जनन अंग के रूप में जनन अंग के रूप में जाया उपस्थित होता है

और यह सब उसको जिसमें एक ही पुष्प में नर जनन अंग और मादा जनन अंग उपस्थित हो तो उसे द्वि लिंगी पुष्प कहते हैं तरीके नर जनन अंग और मादा जनन में अंडरटेल बनेगी और इसमें यहां पर आकर बनेंगे और इस परागकण में नर युग्मक होगा इनके संलयन से युवराज बनेगा और इनके युग मनोज से भ्रूण का विकास होगा और बीज बनेंगे तो पुष्प कर्म का महत्व बीजों के निर्माण में है बीजों के निर्माण में अधिक से अधिक बीजों का निर्माण कितने पुष्पा होंगे पुष्पक्रम में उतने

ही अधिक बीजों का निर्माण होगा तो यह इसका महत्व बीजों के निर्माण में है राइट आंसर पर बात करें तो बीजों के प्रकीर्णन में बीजों के प्रकरण में वायु जल इसके अलावा जंतु यह प्रकरण में इसके अलावा कुछ और रोम युक्त रचना उपस्थित होती तो बीजों के प्रकरण में वायु जल जंतु रोम यह सहायता करते हैं पुष्करण नहीं तो यह अपने आइटम नहीं है बड़ी संख्या में बीजों के निर्माण में यह अपना राइट आंसर है क्योंकि पुष्पकरण बीजों के निर्माण में सहायक है बीजों के निर्माण में यह राइट आंसर होगा हम बात करें पराग कणों के निर्माण में पराग कणों का निर्माण पराग कोष में होता है

किंतु यह एक लिंगी पुष्प में भी होगा एक लिंगी पुष्प में भी तू यहां जब तक बीजों का या पुष्कर में दोनों पुष्प उपस्थित है तो उसे अधिक से अधिक बीज बनेंगे तो यह भी अपना राइट आंसर नहीं है हम बात करें यहां पर पराग के प्रकरण में पराग कणों के प्रकरण में रोम वायु जल और जीव-जंतुओं के द्वारा पठन किया जाता है तो पर आंकड़ों के प्रकरण में भी पुष्पक्रम महत्व नहीं रखता तो यह अपना राइट आंसर नहीं है हमारा राइट आंसर बीजों के निर्माण में ओके स्टूडेंट थैंक यू

Comments

Add a public comment...