logo
search
search
user
login
Login

आइन्स्टीन के अनुसार, जब v आवृत्ति का या lambda तरंगदैर्ध्य का फोटॉन या प्रकाश phi_(0) कार्य फलन के धात्विक सतह पर आपतित होता है। जहाँ phi_(0) lt h v (यहाँ h प्लांक नियतांक है। )तब फोटो इलेक्ट्रॉन का उत्सर्जन होता है। उत्सर्जित होने वाले फोटो इलेक्ट्रॉन की गतिज ऊर्जा निम्न सूत्र K_("max") = hv - phi_(0) द्वारा दी जाती है। यदि आपतित प्रकाश की आवृत्ति v_(0) है, तब फोटॉन बिना किसी ऊर्जा के धातु से उत्सर्जित होने लगते है, इसलिये h v_(0) = phi_(0) उत्सर्जित होने वाले फोटो इलेक्ट्रॉन का निरोधी विभव निम्न सूत्र द्वारा दिया जाता

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 16-1-2021

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE
camera

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!
check-circle

लिखित उत्तर

`(hv - phi_(0))/(e)``hv - phi_(0)``(hv)/(e)``(phi_(0) + hv)/(e)`

Answer :
A
Solution :
अधिकतम गतिज ऊर्जा `K_("max") = hv - phi_(0) = e V` <br> `:. V = (hv - phi_(0))/( e)`

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details