Getting Image
Please Wait...
Login
Register now for special offers
+91

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Chemistry

>

Chapter

>

D और F ब्लॉक के तत्व

>

लेन्थेनाइड क्या हैं? इनको पृथक...

Updated On: 27-06-2022

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

स्टूडेंट से क्वेश्चन ऐसे पूछा क्या है लैंथेनाइड क्या है इनको प्रथा करना क्यों कठिन है ठीक है इस क्वेश्चन में उनसे पूछा कि आई लेंस क्या है सबसे पहले मेथेनाइड बताएंगे क्या होते हैं देखिए यहां पर यहां से लैंथेनाइड होता है हमारा परमाणु क्रमांक 58 से 71 के जितने भी तक होते हैं परमाणु क्रमांक 58 से 71 के तत्व जो होते हैं वह मारी लैंथेनाइड तत्वों के लाते हैं आवर्त सारणी में सबसे बाहर जो होता है नीचे चुन्नू पंक्तियां होती है 36 पंक्तियां उनमें से जो हमारे ऊपर वाली पंक्ति होती है वह हमारी क्या कहलाती है लैंथेनाइड पंक्तियां याद दिला देना श्रेणी के तत्व कहलाते हैं ठीक है तो पर इसे क्या पता चला परमाणु क्रमांक 58 से खत्म तक के जितने भी तक होते हैं वह लाइट श्रेणी के तत्व कहलाते हैं और इन आइडियल आतंकी लव चाइनीस एकदम बाहर 36 पंक्तियों में लेटे हुए थे इस वजह से यह लैंथेनाइड तत्वों कहलाते हैं उसके बाद अगर इनके इलेक्ट्रॉनिक विन्यास की बात कर ली जाए तो

23 के तत्वों के परमाणु एक और बैठक में भरते हैं किसमें एफ और मीटिंग में इलेक्ट्रॉनिक विन्यास तत्व के परमाणु 4f ऑर्बिटल में बढ़ते किसने फोड़े ऑर्बिटल में ही भरते हैं ठीक है हमारे लैंथेनाइड के बारे में हो गया अब क्या बात करें लैंथेनाइड होते हैं मैंने यह बता दे इलेक्ट्रॉनिक विन्यास की दृष्टि से देखा जाए तो और एक ऑर्बिटल मरते हैं यह लक्षण और इसमें कुल 14 तत्व होते हैं ठीक है कि 14 तत्व होते हैं जो कि 58 से 71 टक्के होते हैं लैंथेनाइड तत्वों के लाते हैं जो कि इनको पता करना क्यों कठिन है इनको पता करना क्यों कठिन है इसका एक कारण है मेन कारण क्या है इसका इसमें क्या होता है

लैंथेनाइड संकुचन होता है लैंथेनाइड संकुचन तत्व होते हैं वह लाइट से प्रदर्शित करते हैं जिस कारण इनके तत्व को पृथक करना कठिन होता ऐसा क्यों होता है लेकिन ए टर्म कोचिंग का प्रभाव हो क्या होता है और यह क्यों होता है यह बताते हैं इसमें क्या होता है पहली बात तो मैं टेंशन में 98 71 के जो परमाणु तत्व होते हैं उनमें क्या परमाणु क्रमांक बढ़ता है तो उनकी तरफ जाएं भी धीरे-धीरे घटने लगती है तो अगर उदाहरण के तौर पर अगर देखा जाए इसको तो जब हमारा जैसे कोई भी तत्व है उसका परमाणु क्रमांक बढ़ेगा जो सामान लिया एटी नाइन है या 58 एसईसी स्कूल ले लिया उसमें क्या होगा कि हमारा इसमें क्या होगा हमारा तत्व का परमाणु होगा जो बोला वो बड़ा हो जाएगा जब छोटा रहेगा तो तुझे भी बड़ी होगी फिर जब गोला धीरे-धीरे परमाणुओं हमारा बढ़ता जाएगा तो

तुझे भी अपने आप क्या होगी और नाभि को किस तेल से बढ़ते जाएंगे तो तुझे भी धीरे-धीरे क्या छोटी होती जाएगी इस वजह से क्या होता है की त्रिज्या पूरी तरह से कम होने लगती है और इस पूरी तरह से कमी होने के कारण चीजों में इस समग्र कमी को क्या कहते हैं नेट संकुचन कहते हैं क्या कहते हैं लैंथेनाइड समझो यह जो हमारे परमाणु के कई साल होते हैं ना यह कोर्स होंगे तो जैसे जैसे उद्घोष पड़ेंगे उसी तरह हमारी त्रिज्या कम होने लगेंगी और तीन कमी आने लगती है तो इस कमी को ही क्या कहते हैं लैंथेनाइड संकुचन कहते हैं क्या कहते हैं लैंथेनाइड संकुचन अब यह तो पता चल गया लेकिन के कारण पता करना कठिन होता है ऐसा होता कि मेंटेनेंस संकुचन का मतलब तो बता दिया मैंने इसमें क्या होता है जो पूरी तरह से तीन कम होने लगती है परमाणु क्रमांक बढ़ने के कारण उसके उपकोष बढ़ने लगते हैं परंतु इसका प्रभाव पड़ता है परमाणु क्रमांक को के कम होने पर मांग मांग के बढ़ने तरस जाओगे कम होने का प्रभाव होता है वह नेट चलाता है पर इसका

प्रभाव तत्वों पर किस तरह पड़ता है इसमें क्या होता है कि तत्व के कुल्लू में समानताएं आने लगती है इन जैसे की हमारे एक तत्व ले लिया जेड आर और एच एफ जेड आर व्हाई चेंज होते हैं इसके गुण उसके गुणों में समानताएं आने लगती है गुरु गुरु में समानता होने लगती हो ऐसा क्यों होता है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इनकी तृत जाए जो होती है वह करीब होने लगती मेरे पास आ जाती है मेरा दोनों की चीजें देखा जाए तो समान रूप से समान होती है इस वजह से सब गुजन प्रभाव के कारण इनके गुणों में समानता है आती है तो इनके गुणों में समानता है आने लगती है तो इनको पता करना बहुत कठिन हो जाता है तो हम इस क्वेश्चन का आंसर एक लाइन में दे तो क्या होगा लेकिन क्या है यह मैंने बता दिया इनको पता करना क्यों करीना लैंथेनाइड संकुचन प्रभाव के कारण को कम करना कठिन है वह भी इसलिए कि किनकी गुणों में समानताएं आने लगती है आशा करती हूं कि आंसर आपको समझ में आ गया होगा थैंक यू

Comments

Add a public comment...