Login

किसी p-n संधि डायोड में धारा को इस प्रकार व्यक्त किया जा सकता है- <br> `I=I_0[exp((eV)/(k_BT))-1]` जहाँ `I_0` को उत्क्रमित संतृप्त धारा कहते हैं, V डायोड के सिरों पर वोल्टता है तथा यह अग्रदिशिक बायस के लिए धनात्मक तथा पश्चदिशिक बायस के लिए ऋणात्मक है। I डायोड से प्रवाहित धारा `k_B` है बोल्ट्जमैन नियतांक `(8.6xx10^(-5)eV//K)` है तथा T परम ताप है। यदि किसी दिए गए डायोड के लिए `I_0=5xx10^(-12)` A तथा T = 300K है, तब 0.6V अग्रदिशिक वोल्टता के लिए अग्रदिशिक धारा क्या होगी?

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

Answer :
(a) `0.0629A` (b) `2.97A, `(c) `0.336Omega` <br> (d) दोनों वोल्टताओं के लिए धारा `I` का मान लगभग `I_(0)` के समान होगा इससे ज्ञात होता है कि पश्चदिशिक बायस में गतिक प्रतिरोध का मान अनंत होगा।

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details