doubtnut_header_logo_white_new

इस अभिक्रिया के लिए 800 K पर Ke = 4.24 है -
CO(g)+H2O(g)CO2(g)+H2(g)
800 K पर CO2 एवं H2O तथा H2O के साम्य पर सांद्रताओं की गणना कीजिए, यदि प्रारंभ में केवल CO तथा H2O ही उपस्थित हों तथा प्रत्येक की सांदता 0.1M हो।

लिखित उत्तर

Solution
निम्नलिखित अभिक्रिया के लिए:

जहाँ साम्य पर CO2 तथा H2 की मात्रा xmoIL1 है। अतः साम्य स्थिरांक को इस प्रकार लिखा जा सकता है -
Kc=x2/(0.1x)2=4.24
x2=4.24(0.01+x20.2x)
x2=0.0424+4.24x20.848x
3.24x20.848x+0.0424=0
a=3.24,b=0.848,c=0.0424
एक द्विघात समीकरण के लिए ax2+bx+c=0
x=(b±b24ac)2a
x=0.484±(0.848)24(3.24)(0.0424)/(3.24)/6.48
x=(0.848±0.4118)/6.48
x1=(0.8480.4118)/6.48=0.067
x2=(0.848+0.4118)/6.84=0.194
मान 0.194 की उपेक्षा की जा सकती है, क्योंकि यह अभिकारकों की सांद्रता बतलाएगा, जो प्रारंभिक सांद्रता से अधिक है। अतः साम्यावस्था पर सांद्रताएँ ये हैं,
[CO2]=[H2]=x=0.067M
[CO]=[H2O]=0.1=0.067=0.033M
adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased
Related Videos
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
CO2(g),CO(g) तथा H2O (g) के लिये ΔHf क्रमश: - 393.5,-110.5 तथा-241.8 kJ/mol है। तो निम्न क्रिया के लिये CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(g) मानक ऐन्थैल्पी परिवर्तन होगा

371317800

3.4K04:49

CO2(g),CO(g) तथा H2O (g) के लिये ΔHf क्रमश: - 393.5,-110.5 तथा-241.8 kJ/mol है। तो निम्न क्रिया के लिये CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(g) मानक ऐन्थैल्पी परिवर्तन होगा
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
CO(g),CO2(g) तथा H2O(g) की सम्भवन उष्माये क्रमशः 25.7,93.2 तथा 56.4 किलो - कैलोरी/मोल है निम्न रासायनिक अभिक्रिया की ऊष्मा की गणना कीजिए
CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(g)

94846287

4.8K04:04

CO(g),CO2(g) तथा H2O(g) की सम्भवन उष्माये क्रमशः 25.7,93.2 तथा 56.4 किलो - कैलोरी/मोल है निम्न रासायनिक अभिक्रिया की ऊष्मा की गणना कीजिए
CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(g)
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
इस अभिक्रिया में
CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(g),ΔH=80kJ
ΔH को कहा जाता है

559602817

7.3K02:16

इस अभिक्रिया में
CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(g),ΔH=80kJ
ΔH को कहा जाता है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
1 atm और 298 K पर साम्य H2O(l)H2O(g) के लिए

559603756

3.5K04:33

1 atm और 298 K पर साम्य H2O(l)H2O(g) के लिए
doubtnut_header_logo_white_new
TEXT SOLUTION
298 K ताप पर अभिक्रिया CO(g)+H2O(g)<CO2(g)+H2(g) के लिए साम्य स्थिरांक (K)=1.06×105 है तो इस अभिक्रिया के लिए मानक मुक्त ऊर्जा परिवर्तन की गणना कीजिये।

648501990

5.9K

298 K ताप पर अभिक्रिया CO(g)+H2O(g)<CO2(g)+H2(g) के लिए साम्य स्थिरांक (K)=1.06×105 है तो इस अभिक्रिया के लिए मानक मुक्त ऊर्जा परिवर्तन की गणना कीजिये।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
2.82 ग्राम ग्लूकोज (आण्विक द्रव्यमान = 180 ) को 30 ग्राम जल में विलेय किया गया. इस आधार पर गणना कीजिए-
विलयन में ग्लूकोज तथा जल के मोल गणना-

112168222

6K04:56

2.82 ग्राम ग्लूकोज (आण्विक द्रव्यमान = 180 ) को 30 ग्राम जल में विलेय किया गया. इस आधार पर गणना कीजिए-
विलयन में ग्लूकोज तथा जल के मोल गणना-
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
यदि एक अतिपरवलय के शीर्ष (2,0) तथा (2,0) पर है तथा इसकी एक नाभि (3,0) पर है, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस अतिपरवलय पर स्थित नहीं है

334964616

5.3K04:29

यदि एक अतिपरवलय के शीर्ष (2,0) तथा (2,0) पर है तथा इसकी एक नाभि (3,0) पर है, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस अतिपरवलय पर स्थित नहीं है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?

334964539

2.7K04:06

माना एक दीर्घवृत्त जिसका दीर्घ -अक्ष, X-अक्ष के अनुदिश है तथा केन्द्र मूलबिंदु पर है, के नाभिलम्ब की लम्बाई 8 है । यदि दीर्घवृत्त की नाभियो के बीच की दुरी, इसके लघु-अक्ष की लम्बाई के समान हो, तो निम्न में से कौन-सा बिन्दु इस पर स्थित है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
H2S या H2O में से किसका आबन्ध कोण अधिक होता है तथा क्यों ?

309500185

7.5K04:32

H2S या H2O में से किसका आबन्ध कोण अधिक होता है तथा क्यों ?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
अभिक्रिया (A+B) के लिये निम्न आँकड़े प्राप्त हुए |
इन आँकड़ों से A एवं B के सन्दर्भ में अभिक्रिया की कोटि तथा सम्पूर्ण अभिक्रिया की कोटि का निर्धारण कीजिए।

309497737

7.3K05:10

अभिक्रिया (A+B) के लिये निम्न आँकड़े प्राप्त हुए |
इन आँकड़ों से A एवं B के सन्दर्भ में अभिक्रिया की कोटि तथा सम्पूर्ण अभिक्रिया की कोटि का निर्धारण कीजिए।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
2NH3(g)+CO2(g)NH2CONH2(aq)+H2O(l) 298 K पर उपरोक्त अभिक्रिया के लिए ΔG का मान -13.6 किलजूल मोल1 है साम्य ृतराणक का मान ज्ञात कीजिय |

94846306

2.2K02:05

2NH3(g)+CO2(g)NH2CONH2(aq)+H2O(l) 298 K पर उपरोक्त अभिक्रिया के लिए ΔG का मान -13.6 किलजूल मोल1 है साम्य ृतराणक का मान ज्ञात कीजिय |
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
50 K पर H2 800K O2 के वर्ग - माध्य मूल वेगों का अनुपात है

364568669

5.3K04:11

50 K पर H2 800K O2 के वर्ग - माध्य मूल वेगों का अनुपात है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
विषम चुनें : CO,CO2, NO, H2O

642698853

2K01:44

विषम चुनें : CO,CO2, NO, H2O
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्नलिखित अभिक्रिया पर विचार कीजिए
(i)H+(aq)+OH(aq)H2O(l)
ΔH=x1 किलो जूल "मोल"^(-1)
(ii)H2(g)+12O2(g)H2O(l)
ΔH=x2 किलो जूल "मोल"^(-1)
(iii)CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(l)
ΔH=x3 किलो जूल "मोल"^(-1)
(iv)C2H2(g)+52O2(g)2CO2(g)+H2O(l)ΔH+x4 किलो जूल "मोल"^(-1)
H2O(l) की संभवन ऊष्मा है

368907104

9.9K04:34

निम्नलिखित अभिक्रिया पर विचार कीजिए
(i)H+(aq)+OH(aq)H2O(l)
ΔH=x1 किलो जूल "मोल"^(-1)
(ii)H2(g)+12O2(g)H2O(l)
ΔH=x2 किलो जूल "मोल"^(-1)
(iii)CO2(g)+H2(g)CO(g)+H2O(l)
ΔH=x3 किलो जूल "मोल"^(-1)
(iv)C2H2(g)+52O2(g)2CO2(g)+H2O(l)ΔH+x4 किलो जूल "मोल"^(-1)
H2O(l) की संभवन ऊष्मा है
doubtnut_header_logo_white_new
TEXT SOLUTION
निम्न में से किस अभिक्रिया में ऊष्मा का उत्सर्जन अधिक होगा तथा क्यों?
(i) H2(g)+12O2(g)H2O(g)
(ii) H2(g)+12O2(g)H2O(l)

648501940

8.7K

निम्न में से किस अभिक्रिया में ऊष्मा का उत्सर्जन अधिक होगा तथा क्यों?
(i) H2(g)+12O2(g)H2O(g)
(ii) H2(g)+12O2(g)H2O(l)