Login
HomeHindiकक्षा 12PhysicsChapterवैद्युत क्षेत्र और गाउस नियम

वैद्युत बल रेखाओं के दो गुण ब...

वैद्युत बल रेखाओं के दो गुण बताइये। किसी मुक्त धनात्मक बिन्दु आवेश के लिए ये रेखाएँ खींचें।

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

विद्युत बल रेखाओं के 2 गुण बताइए किसी मुक्त धनात्मक बिंदु आवेश के लिए यह रखा है कि हमको प्रश्न में दिया गया है तो वैद्युत बल रेखाएं जो होती है वह कहां से शुरुआत करती है वह धनात्मक आवेश शुरुआत करती है धनात्मक बिंदु अवश्य कर ले ले तो वहां से बाहर की ओर जाएगी ठीक है दोस्तों बाहर की ओर जो है विद्युत बल रेखाएं जाती है ठीक अब यह बाहर तो चली जाती लेकिन अंदर कहां पर जाती है अगर आवेश जो है वह ऋण आत्मक है तो वहां पर वैद्युत क्षेत्र रखा है जो है वह अंदर की ओर आती है ठीक है विद्युत क्षेत्र में दिखाएं धनात्मक आवेश से प्रारंभ होकर ऋण आत्मक आवेश में जाकर समाप्त होती है ऐसा कहना सही रहता है ठीक है दोस्तों अब यह प्रश्न में क्या देखे धनात्मक मुक्त बिंदु आवेश के लिए यह लिखा है कि से तो बिल्कुल इसी तरह से दिखेगा अगर हम अच्छे से चित्र बना दे तो चलिए एक आवाज बना लेते सब बिंदु आवेश बोला है बिंदु आवेश को हम गोल के रूप में बना दे अगर चली एक छोटा सा बिंदु आवेश ही बना लेते हैं अब यहां क्षेत्र में रखा है बाहर की तरफ निकले गी कुछ इस तरीके से ठीक है

चित्रकार बाहर की तरफ निकले गी ऐसा ठीक है चित्र दिखाइए कि जो प्रबलता है वह या निर्धारित करती है कि क्षेत्र कितना प्रबल है रेखा है अगर पास पैसे तो चित्र अधिक प्रबल है दूर-दूर है तो चित्र जो है वह कम प्रबल है या फिर दुर्बल है ठीक है इस तरीके से हम बता सकते हैं यह जो अंतर पर है ना वह धनात्मक बिंदु आवेश ठीक है प्लस क्यों उसको लिख सकते ठीक है यहां से जो बाहर की ओर निकल रही है तीर का में यह क्या है यह विद्युत क्षेत्र की रेखाएं है ठीक है अब यहां हमको बोला है विद्युत बल रेखाओं के दो गुण बताइए तो विद्युत बल रेखाओं के 2 गुण कौन-कौन से होते हैं कि पहला गुनिया लिख देते यह धनात्मक से शुरुआत होती धनात्मक आवेश जो है वहां से शुरू होकर ऋण आत्मक आवेश पर आकर समाप्त होती है ठीक है और अगर इसका दूसरा गुण हम देखें तो यह अपनी लंबवत दिखा से दूर हटने का प्रयास करती है ठीक है चलिए लिंग लेते हैं पर अपनी लंबवत दिशा से दूर हटने का प्रयास करती है

इसका अर्थ है यहां पर देख लेते हैं यह क्षेत्र रेखाएं हैं अब चित्र दिखाएं कालम बाद क्या होगा यह होगा यह लंबवत हो गया ऊपर की ओर देखे तो यह लंबवत हो गया अपनी लेंगो दिखाओ से जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे यह अपने जो वैदिक क्षेत्र रेखाएं और भी है उनसे दूर हट रही है क्योंकि यहां की दूरी क्या थी कम थी उसके बाद जैसी आगे का यहां दूरी बढ़ गई यहां दूरी और बढ़ गई वैसे जितना आगे जाते जाएंगे इसकी दूरी जो है दो रेखाओं के बीच की वह बढ़ती जाएगी ठीक है यहां प्रबलता भी कम होती जाती है क्योंकि वैद्युत क्षेत्र रेखाओं की संख्या जिस जगह पर अधिक है वहां पर विद्युत क्षेत्र रेखाओं की प्रबलता अधिक है जहां पर नहीं है जहां पर सघन नहीं है ठीक है वहां पर विद्युत क्षेत्र रेखाओं की प्रवणता जो है वह कम होती प्रबलता कम होती है ठीक है यही दिए गए प्रश्न का उत्तर था दोस्तों धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details