Getting Image
Please Wait...
Login
Register now for special offers
+91

Home

>

Hindi

>

कक्षा 10

>

Maths

>

Chapter

>

वास्तविक संख्याएँ

>

उन परिमेय संख्याओं के दशमलव प्...

उन परिमेय संख्याओं के दशमलव प्रसारों को लिखिए जो सांत हैं।<br>`43/20`

Updated On: 27-06-2022

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

Answer : सांत : 2.15

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

नमस्कार दोस्तों आज का हमारा सवाल है उन्हें परिमेय संख्याओं के दशमलव प्रसार ओ को लिखिए जो शांति और यहां पर संख्या धीरे के 43 बटा 20 तो आइए इस सवाल को हल करते तो मैं क्या देखा है परिमेय संख्याओं के दशमलव प्रसार ओ को लिखिए जो शांत है तो यहां पर संख्या 46 बटा 20 परिमेय संख्या का दशमलव प्रसार हमारे पास क्या होना चाहिए साथ होना चाहिए उनको लिखना है तो 7 दशमलव प्रसार क्या होता है दुश्मनों पर असर होता है जिसमें अंश मैहर का पूरा पूरा भाग चला जाता है जैसे एक बटा दो है उसका दशमलव प्रसार हमारे पास क्या हो जाएगा 0.5 ही हो जाएगा सांत दशमलव के साथ में हमारे पास क्या होता है और शाम में दो प्रकार के होते हैं एक तो होता है आवृत्ति पहला तो होता है आवृत्ति और दूसरा होता है हमारे पास आना वृति है तो असांत आवर्ती में हमारे पास क्या होता है जिसमें मंच में हर का पूरा पूरा भाग नहीं जाता लेकिन दशमलव के बाद आने वाली संख्या की आवृत्ति होती है जैसे 1 बटा 3 का दशमलव प्रसार हमारे पास क्या जाएगा 0.3333 तुझको मैं क्या लिखता हूं दो-तीन बार क्या होता है

काजू दशमलव प्रसार 1.414 किस प्रकार चलाया जाता है यहां पर आवृत्ति नहीं होती इसको बोलते हैं असांत आवर्ती परिमेय संख्या अपरिमेय संख्या में पास कौन-कौन सी कंडीशन में होती तो शांत की कंडीशन में होती है और एक असांत आवर्ती की कंडीशन में होती है इन दोनों की कंडीशन में जो संख्या होती है वह परिमेय संख्या होती है मतलब उनको पी बता क्यों के रूप में लिख सकते हैं और आरती की कंडीशन में हमारे पास असांत आवर्ती जो दशमलव प्रसार होता है उसमें जो संख्या होती है वह क्या होता परिमेय संख्या होती है तो मैं क्या बोला यहां पर यहां पर मैं बोला है कि उन परिमेय संख्याओं की दशमलव प्रसार को लिखिए जो शांत है यहां पर हमारे पास जो परिमेय संख्या दे रखी है वह मेरे पास क्या तैयारी बटा 20 हमें परिमेय संख्या पहले ही बोल रखा है उसके दशमलव प्रसार को में लिखना है जो शांति तो यहां पर हमारे पास लक्ष्मण हमारे पास जो संख्या को क्या 40 बटा 20 का दशमलव प्रसार शांत है वह किस प्रकार पता चलेगा चश्मा प्रसार जिसका शांत होता है उसके जो अभाज्य गुणनखंड होते हैं जिसके जोहर की आवाज गुणनखंड होते यार क्या हो जाएगा क्यों क्योंकि जो बाजू गुणनखंड होंगे वो हमेशा क्या होंगे 2 की घात एवं * 5 की घात एन के रूप में होंगे और

अमरपाल असांत आवर्ती परिमेय संख्या है तो उस कंडीशन में मारी पर जो अभाज्य गुणनखंड होंगे वह 2 की घात एवं * 5 की घात इनके अतिरिक्त भी होंगे के अलावा भी होंगे तो यहां पर मेरे पास तो संख्या देखे वह तैयार इस बटा 20 30 का हर हमारे पास क्या है 20 तो 20 के अभाज्य गुणनखंड मेरे पास क्या हो जाएंगे 2 * 2 * 5 वापस कर देंगे 20 के बाजूबंद घंटी बजाएंगे 2 की घात 2 * 5 की गायक तो यहां पर जो हर के अभाज्य गुणनखंड है वह 2 की घात एम * 5 की घात एंड के रूप में इसके अलावा नहीं है अगर इसके अलावा 3 की घात एक आ जाता तू ही होता है मेरे पास असांत आवर्ती दशमलव प्रसार लेकिन यहां पर क्या 2 की घात * 5 की गायक के रूप में 2 की घात 2 * 5 की गायक के रूप में हमारे पास क्या है सांत दशमलव प्रसार तो मैं क्या निकाला यहां पर उन परिमेय संख्याओं के दशमलव प्रसार को लिखिए जो शांति हमारे पास क्या है 7.30 को सरल करने के लिए क्या करूंगा या जाएगा हमारे पास तैयार इस बेटा 20 को 20 को मैं कर सकता हूं 2 की घात 2 बटा 5 की घात 1 2 की घात 2 बटा 5 की घात एक अब नीचे पास ही घातक है यहां पर दुखी का दो इसको 52 बनाने

ऊपर नीचे में क्या करूंगा 571 से मल्टिप्लाई कर दूंगा तू पर तो यार इस * 5 कितना हो जाएगा 5 से 15 का 551 20 और 21 21 हो जाएगा 215 बटा नीचे हमारे पास क्या हो जाएगा 2 की घात 2 * 5 की घात 2 की घात 2 * 5 की का दो और हम जानते हैं कि एक ही घात हैं * बी की घात एम्स को मैं लिखता हूं भी की घात एम तो यहां पर 2 की घात 2 * 5 वी का दो को मेरा रिश्ता 252 मतलबी कितना बजे आएगा दसवीं का दसवीं का दो मेरे पास कितना हो जाएगा सोच लिया जाएगा 215 बटा सब नीचे दोष हीरो है तो दो संख्याओं के बाद दशमन्वा जाएगा तो उसका माना जाएगा 2.15 तो दी हुई परिमेय संख्या मेरे पास शान परेशान तो प्रसार वाली है उसका दशमलव प्रसार आ जाएगा 2.15 धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More
Comments

Add a public comment...