Getting Image
Please Wait...
Login
Register now for special offers
+91

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Physics

>

Chapter

>

विद्युत आवेश एवं क्षेत्र

>

कोई इलेक्ट्रॉन E=2.0xx10^(4) ...

कोई इलेक्ट्रॉन `E=2.0xx10^(4)` न्यूटन/कुलॉम ` परिणाम के एकसमान विद्युत क्षेत्र 1.5 से. मी. दुरी तक गिरता है। [चित्र (a )] क्षेत्र का परिणाम समान रखते हुए इनकी दिशा उत्क्रमित कर दी जाती है तथा अब कोई प्रोटॉन इस क्षेत्र में उतनी ही दुरी तक गिरता है [चित्र (b )] दोनों प्रकरणों में गिरने में लगे समय की गणना कीजिए । इस परिस्थिति का 'गुरुत्व के अधीन मुक्त पतन ' से तुलना कीजिए । <br> <img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/PRB_HIN_PHY_XII_C01_SLV_026_Q01.png" width="80%">

Updated On: 27-06-2022

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

Solution : चित्र (a ) में क्षेत्र ऊपर की दिशा में है, अतः ऋणावेशित इलेक्ट्रानों पर बल (F ) नीचे की दिशा में अनुभव करता है, अतः <br> इलेक्ट्रॉन का त्वरण `a_(e)=(F)/(m_(e))` <br> या `" "a_(e)=(eE)/(m_(e))` <br> जहाँ E विद्युत क्षेत्र का परिणाम है तथा इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान है। विरामावस्था से इलेक्ट्रॉन के मुक्त रूप से s दुरी तक गिरने में लगा समय `s= ut+(1)/(2)a_(e)t_(2)^(2),` <br> `because u=0` <br> `therefore s=(1)/(2)a_(e)t_(2)^(2)" या "t_(e)=sqrt((2s)/(a_(e))=sqrt((2sm_(e))/(eE))` <br> जहाँ `e=1.6xx10^(-19)` कुलॉम (C), `m_(e)=9.11xx10^(-31)"कि. ग्रा.(k.g.)` <br> `E=2.0xx10^(4)` न्यूटन/कुलॉम `(NC^(-1)), s=1.5xx10^(-2)` <br> मीटर (m), तब <br> `t_(e)=2.9xx10^(-9)` सेकण्ड (s) <br> चित्र (b ) में क्षेत्र नीचे की ओर है, अतः धनावेशित प्रोटॉन eE पर बल (E ) नीचे की दिशा में बल अनुभव करता है। अतः प्रोटॉन का त्वरण <br> `a_(p)=(F)/(m_(p))` <br> या `" "a_(p)=(eE)/(m_(p))` <br> यहाँ `m_(p)` प्रोटॉन का द्रव्यमान है, `m_(p)=1.67xx10^(-27)` कि .ग्रा. । <br> अतः प्रोटॉन द्वारा गिरने में लिया गया समय <br> `t_(p)=sqrt((2s)/(a_(p)))` <br> `=sqrt((2sm_(p))/(eE))` <br> `=1.3xx10^(-7)` सेकण्ड <br> इस प्रकार समान दुरी तक गिरने में भारी कण (प्रोटॉन ) अधिक समय लेता है। गुरुत्व के अधीन मुक्त पतन एवं विद्युत क्षेत्र के कारण पतन में मुख्य अंतर यही है कि गुरुत्व के अधीन मुक्त पतन में समय वस्तु के द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता है तथा विद्युत क्षेत्र के कारण आवेश की गति में गुरुत्वीय त्वरण की उपेक्षा की जाती है अतः इस स्थिति में प्रोटॉन के त्वरण का मान <br> `a_(p)=(eE)/(m_(p))` <br> `=((1.6xx10^(-19)C)xx(2.0xx10^(4)N//C))/(1.67xx10^(-27)k.g.)` <br> या `" "a_(p)=1.9xx10^(12)m//s^(2)` <br> प्रोटॉन के इस त्वरण `(a_(p))` का मान गुरुत्वीय त्वरण `(9.8m//s^(2))` की तुलना में एक बहुत बड़ी राशि है इसी प्रकार इलेक्ट्रॉन के त्वरण का मान `(a_(e))` ओर अधिक प्राप्त होता है अतः उपरोक्त उदाहरण में गुरुत्वीय त्वरण के प्रभाव को नगण्य माना जा सकता है।

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

दिल आपस में यह बताया जा रहा है कि कोई इलेक्ट्रॉन ई = 2 * 10 की घात 4 न्यूटन प्रति गुलाम परिमाण के किसी एक समान विद्युत क्षेत्र में रखा जाता है तो वह इतिहास एडमिट की दूरी तक गिरता है मतलब उसका जो उधर विस्थापन है उस इलेक्ट्रॉन का उस युद्ध क्षेत्र में कितना है एक देश में 5 सेंटीमीटर नीचे की ओर जो हमें चित्र असर दिख रहा है ठीक है पर हम देखते हैं तो विद्यक्षेत्र हैं विधि क्षेत्र की दिशा कहां से धनात्मक से नाक में क्यों ऊपर की ओर है उधर ऊपर की ओर है इस बीच में यदि कोई इलेक्ट्रॉनिक पर इन दोनों आवेशों के मध्य यदि मौजूद होता है तो वह आत्मक आवेश की ओर बढ़ता है कितनी कितनी दूरी पर एक नेपाल सेंटीमीटर दूरी पर एक ही बात हुई बोला जाता है कि क्षेत्र का परिमाण यदि हम सम्मान रखते हुए या का परिमाण उतना ही हो परंतु हम उसकी दिशा भ्रमण कर दें मतलब नीचे धनात्मक आवेश उपकरण आत्मक आवेश था तो धनात्मक सिरा प्रवेश की तरफ उसकी दिशा थी अब उसे उल्टा कर दिया गया ऊपर देखिए धार्मिक आवेशों नीचे रखा विदिशा भी उल्टी हो गई

इसी स्थान पर दिया जाए प्रोटॉन इलेक्ट्रॉन की जगह प्रोग्राम को यदि रखा जाए तो वह भी उतनी ही दूरी पर गिरता है यह बताया जा रहा है तो बोला जा रहा है कि दोनों प्रकरणों में गिरने वाले गन्ने में लगने वाले समय के गाना हमें करनी है इलेक्ट्रॉन के लिए और उनके लिए यह भी बताना है हमें किस स्थिति में गुरु के अधीन मुक्त पतन से इसकी तुलना हम किस प्रकार से कर पाएंगे लिखे दो चित्र में दिए हुए हैं अनुसार हम देखते हैं कि क्या क्या मन पर या क्या-क्या बल पर आरोपित होते ही सबसे पहले हम पहले चित्र की बात करेंगे पहले की बात यदि हम करते हैं तो इलेक्ट्रॉन के आवेश को बताता है कि इलेक्ट्रॉन का आवेश विराम अवस्था से यदि इस परिधि क्षेत्र के भीतर रखा जाता है तो वह विद्युत क्षेत्र में नीचे की ओर इंग्लिश में 5 सेंटीमीटर में स्थापित होता है यह बताया गया है अब हम बोलते हैं छेत्र की दिशा ऊपर की ओर है और इस तरह जरा भविष्य जो हमारे पास में कौन है उस पर बल्ली जी को लगता है क्यों विद्युत क्षेत्र के कारण तो विद्युत क्षेत्र के कारण

लगने वाले परिमाण का बल की चर्चा करनी है तो हम उसे क्या लिखें एप्स हम मिलते हैं ठीक है इलेक्ट्रॉन पर हो रहा है कि हमें ऐसी लिखा सपरिवार क्या होगा उस पर आवेश और विद्युत क्षेत्र की तीव्रता के गुणनफल के बराबर लग रहा है बल्कि टीम से खेल के कारण उत्पन्न होता है तो उसका द्रव्यमान पर इस प्रकार उस में होने वाले उत्तरण उत्तरण क्या होगा लिखे वह बल की दिशा पर ही लगने के कारण बल की दिशा पर ही त्वरित होगा यह कहां लग रहा है नीचे की दिशा लग रहा है उस पर क्षेत्र का प्रमाण ऊपर की ओर है और यह कौन है इसलिए इस पर आवेश के अनुसार मांजू है परिमाण में नीचे क्यों लग रहा है कि हमें मिला तो उसके अनुसार हम दोनों समीकरणों को देखते हैं तो हमें जो ट्रेन है वह किस प्रकार से मिलेगा देखिए में बराबर क्यों क्यों क्यों बता रहा है यदि हमें क्या करना होगा

यूपी अनुपात नीचे एमपी के रूप में इलेक्ट्रॉन में उत्पन्न हुए तोरण की मांग को बताता है इसके परिणाम किस तरह से निकालता है आवेश कितना होता है वह हम देखते हैं उसकी बात होती है तो इसे राणा क्रिशन 6 * 10 की घात 19 ग्राम के रूप में यहां पर जो विद्युत क्षेत्र में दिया हुआ है वह है 2 * 10 की घात 4 न्यूटन प्रति कोल्लम यह में दिया हुआ है इसके अलावा यदि हम उसके द्रव्यमान की बात करते हैं तो द्रव्यमान इलेक्ट्रॉन का कितना होता है इलेक्ट्रॉनिक रहमान का 9.1 * 10 की घात 31 तक ना यह होगा किलोग्राम पर तो देखिए इन सभी मांगों को हल करें तो जो तोरण हमें प्राप्त होता है जो तुरंत उत्पन्न हुआ इलेक्ट्रॉन में उस क्षेत्र में लगने वाले बल के कारण इसकी दिशा कहां विद्युत क्षेत्र की दिशा के अनुरूप ही रहने वाली है उसे हम किस प्रकार से निकाल पाते हल करते हैं उसका मन आता है तो संजय सिंह व 35 * 10 की घात 16 मीटर प्रति सेकंड वर्ग कृपया यह में उसके अकाउंट में उत्पन्न हुए तुरंत बता रहा है

ठीक है परंतु हमें यहां पर मिल गया तुरंत हमें मिल गया तो अब हमें क्या निकालना हैं वह विस्थापित जितना हुआ तो उसे विस्थापित होने में या उधर विस्थापन नीचे को जब गिरता है तो वह कि वह कितना समय वहां पर लेता है सिम किस प्रकार से निकाल पाए गति के द्वितीय समीकरण से ड्यूटी समीकरण में क्या बताता है इस बराबर यूटी 1 अनुपात 2 एक लिखित क्या है में बताया था लेकिन ऊर्ध्वाधर दिशा में हो कितनी कितनी विस्थापित हुई है नीचे की तरफ कितनी गिरी है समान कितना है पैसों से वह है एक जिसमें 5 सेंटीमीटर सेंटीमीटर को किस प्रकार से लिखा जाएगा अभी कि यहां पर यूज है वह उठाकर स्थिति पर उसके वीको बता रहे हैं उधर स्थिति पर प्रारंभिक रूप से ही हम देखे तो उसका वह क्या है प्रांतिक पर 10 और यहां पर जो है तुरंत तुरंत किस प्रकार से उत्पन्न हुआ अब हम इसे क्या लिखते हैं लिखिए इंग्लिश में 5 * सेंटीमीटर से हम मीटर प्रदर्शित कर रहे हैं इन दोनों ने किया बराबर यहां पर लेते हैं कल्पा दो और यह जो है यह हमें क्या बताता है उसमें

कल हुए इलेक्ट्रॉन में उत्पन्न होता है और यहां पर कि हमें लिखना कि जो समय लगता है लगता उनको नीचे गिरने में वह समय तमान इस तरह हम देखें तो हमारे पास तो 5 * 10 की घात रन 2 * 2 और नीचे क्या मन निशान बनते हैं क्या है अभी जो हमें निकाला उसके लिए उसके तोरण को संदेश नंबर 35 * 10 की घात 16 कितना आएगा पूरी तरह से अमल करते हैं तो हल करने के बाद उसका मिलता है 2.92 * 10 की घात रेंट 9 सेकंड के रूप में हमें मिलाकर यह एक समान विद्युत क्षेत्र में यदि किसी इलेक्ट्रॉन को रखा जाता है तो विराम अवस्था सेवर यदि विक्षेपित होती है और दादा नीचे की ओर या जिस विदिशा पर होती है तो उसे लगने वाले समय का मान लक्ष्मण 22 * 10 की घात रीना सेकंड हमें प्राप्त हुआ बिल्कुल यही सब हम किसके लिए देखने वाले हैं चित्र भी के अनुसार चित्र भी के अनुसार हम देखते हैं ऐसे ही बिल्कुल यहां भी हम वही बात करने वाले हैं लिखिए यहां पर हमें क्या किया था

संस्थाओं के लिए उसके यहां पर दिशा को हमें क्या लिया था दिशा वहां पर उल्टी ठीक ठीक है वह जो तुरंत पर हुआ था अब इस प्रकार हम देखते हैं प्रोटोन के लिए तो प्रोटॉन के लिए विद्युत क्षेत्र में है विद्युत क्षेत्र में है तो वह भी बल का अनुभव करेगा बल का यदि वह अनुभव करता है तो जन्नत में दिशा से उल्टी दिशा पर वह आएगा मतलब रहना दिशा की ओर आएगा तो हम बोलते हैं विद्युत क्षेत्र के कारण सुरक्षा बल लगेगा उस पर बल लगेगा उसे ने एसपी से पशु कराएं क्योंकि प्रोटोन प्रोटोन में उसके आवेश और विधि क्षेत्र के गुणनफल के जो बराबर है उस पर लगने वाले बल को परिभाषित करेगा परंतु यदि नौटंकी द्वितीय हमसे भी हम देखें तो न्यूटन के द्वितीय नियम के अनुसार उस पर जो बल लगता है प्रोटॉन पर लगने वाला बल उसके द्रव्यमान और उसमें उत्पन्न हुए तोरण के गुणनफल के बराबर होगा ठीक है और उसकी दिशा कहां रहने वाली है जहां बल की दिशा है उसी दिशा पर उसमें त्वरण उत्पन्न होगा यह ने देख लिया इसे किस प्रकार लिखता है इसे फिर से हम वही लिखते हैं एमपी एपी यहां पर यू पी के रूप में हमें क्या बताता है उसमें

तबीयत अब हमें उसमें तुरंत ज्ञात करना है तो उसका मान हम किस प्रकार से ज्यादा रुपए डीपी हमने लिखा लेकिन क्यों आवेश क्या है अब इलेक्ट्रॉन के आवेश के बराबर होता है परंतु धनात्मक रुक सकते मुझे * 10 की घात 19 गुलामों के रूप में क्षेत्र कितना है 2 * 10 की घात यहां पर 4 न्यूटन प्रति गुलाम के रूप में और नीचे हम देखते हैं उसमें उसके द्रव्यमान क्या होता है परंतु यहां पर टोटका होता है वह होता है 1.67 * 10 की घात ऋण 27 लिखी प्रोटॉन जो है कौन से भारी होता है तो यह किलोग्राम पर हुआ हमने हल किया तो इसी का मन हाथा में मिलता है 1.91 * 10 की घात 1211 में आएगा मीटर प्रति सेकंड वर्क पर यह हमें बता रहा है कि प्रोग्राम में कितना तुरंत उत्पन्न हुआ किसी ही हम इसे किस तरह साल करें कि किस तरह अलका सकते हैं इस पर भी लगने वाले बल को गति के द्वितीय नियम से हम बना सकते हैं प्रतिकृति माफ कीजिएगा समीकरण समीकरण क्या होता है

यह होता है यूटी धन 1 अनुपात 2 एट वर्क रिपोर्ट आने के बाद की जा रही है उधर विस्थापन बराबर है तो हमने ऐसे लिख लिया जिसमें 5 * 10 की घात 2 बराबर यहां पर यू प्रांतिक रूप से वह भीमराव समिति सुने हमें लिया 1 अनुपात 2 यहां पर लिया है यह क्या है इस पर उत्पन्न हुए तोरण को एपी कितना समय कौन प्रोटॉन के लिए डीपी से मुक्त कर पाए हैं जिसका वर्क होगा इसे किस प्रकार लिखा जाएगा टीपी हमें क्या इसका वर्क यह बनता है 2 गुना 1.5 गुना 10 की घात हरण दो नीचे मांगते हैं तो इसका मन एपी एपी ग्रुप में कितना हमने भी निकाला 1.91 * 10 की घात 12 मीटर प्रति सेकंड वर्कर के समय कौन देखते हैं तो सीधी हमें हल किया तो टीवी का मान वर्ग मूसेल्क आने के बाद का मन करता रह 1.25 * 10 की घात यहां पर ऋण 7 सेकंड प्राप्त हो रहा है तो हमें देखी मान मिला वह समान दूरी पर गिरने के लिए समान हमें अधिक मिल रहा है मतलब सामान चोरी करने के लिए प्रोटॉन जारी भारी है उसे अधिक समय लगता है जबकि

उनको वह दूरी को तय करने में या नीचे गिरने में उसकी तुलना में यहां परीक्षा में कम समय लगता है लिखिए अंतिम रूप से पूछा गया है हमें कि गुरुत्व के अधीन मुक्त पतन से इसकी तुलना हमें करनी है लिखे जो उसमें तरणतल हुआ था पर अनपढ़ होने के लिए यहां पर हम देख पा रहे हैं कि जो तुरंत था दोनों स्थितियों में वह उनके द्रव्यमान पर निर्भर कर रहा था ठीक है रमन पर निर्भर करा था अभी अभी हम ग्रुप ही तरह की बात करते हैं तो ग्रुप वितरण सूची होता है गुरुत्वीय त्वरण के रूप से ही तो वह मुक्त पतन के अनुसार नीचे की ओर स्वतंत्र रूप से गिरेगा पृथ्वी के तल पर कोई वस्तु ठीक है बिना उस पर यह ग्रुप वितरण की ही बात करते हैं तो कृति तुरंत जी के कारण जी जो है वह किस पर निर्भर करता है वह यहां पर वस्तु के द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता है या जो कल है उसके घर पर या उसके द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता यह हम बोल देते हैं तो इस प्रकार हम बोल सकते हैं कि यदि वह गुरुजी चरण के द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता है और यह जो समय है

है जो समय हमने प्राप्त किया वह तुरंत से प्राप्त हुआ था तो यहां पर किसके लिए या किससे संबंधित था वह उन कणों के द्रव्यमान से संबंधित था इसके अलावा हम क्या बोलते हैं गुरुजी 2.8 1 मीटर प्रति सेकंड वर्ग से हम उसकी तुलना करते हैं जो दोनों कानों में उत्पन्न तोरण हैं दोनों कानों में जो उत्पन्न तोरण का मान देखिए जो गुरुत्वीय त्वरण का मान से बहुत अधिक है बहुत अधिक है इसलिए हमने गलती तुरंत के मान को यहां पर नगर ने माना हुआ है यह प्रश्न का उत्तर होगा धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More
Comments

Add a public comment...