Login
HomeHindiकक्षा 12PhysicsChapterगतिमान आवेश और चुंबकत्व

साइक्लोट्रॉन किसे कहते है ? इस...

साइक्लोट्रॉन किसे कहते है ? इसकी रचना एवं कार्य विधि समझाइये ।

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

हेलो दोस्तों मेरा प्रश्न है साइक्लोट्रॉन किसे कहते हैं इसकी संरचना एवं कार्य विधि समझाइए ठीक है साइक्लोट्रॉन के बारे में हम समझते सबसे पहले तो यह समस्या के साइक्लोट्रॉन होता क्या ठीक है तो साइक्लोट्रॉन एक ऐसी युक्ति है जिसका उपयोग आवेशित करो या आईनों को उच्च गति में पारित करने के लिए किया जाता है कि से किया जाता है साइक्लोट्रॉन क्या है यह एक युक्ति है जिसका उपयोग आवेशों को या आवेशित कणों को या आई नो को को उच्च वर्गों में कुछ भागों में त्वरित करने के लिए

किया जाता है ठीक है जो हमारा अवचेतन होता है उसे कुछ भेज दे देते हैं जिसे क्या होता है वह त्वरित होता है ठीक है कुछ बैग में त्वरित करने के लिए हम साइक्लोट्रॉन इत्ती का उपयोग करते ठीक है यह इसकी यहां पर यह चित्र है रचना है समझते यह रचना किस तरह से है तो सबसे पहले तो सिद्धांत की बात करते हैं तो साइक्लोट्रॉन किस सिद्धांत पर कार्य करती है कि जब किसी धन आवेशित कण को उच्च आवृत्ति वाले विद्युत क्षेत्र में प्रबल चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग करते हुए बार-बार गति कराई जाए तो आवेशित कण त्वरित हो जाता है तथा इसकी ऊर्जा बहुत अधिक बढ़ जाती है ठीक है इसका यह सिद्धांत होता है ठीक है और अगर हम रचना की बात करें तो यह हमारा क्या होता है जो d1 जो आकृति जो दिख रही है साइकिल साइकिल फोन में 2G आकृति के खोखले धातु के पात्र लगे होते हैं ठीक है यह जो हमारा भी देख रहे हैं यह हमारा यह क्या होता है हमारा

खोखले धातु का पात्र होता है खोखले धातु का पात्र होता है और उसी प्रकार यह भी पात्र होता है ठीक है एक कॉमेडी वन बोलते हैं इसको हम लोग भी तू बोलते ठीक है तो d1 d2 का नाम प्लीज बोलते हैं ठीक है डिश बोला जाता है अब आगे देखते हैं तो इसमें क्या होता है कि इस तरफ से दिया जाता है और यहां पर हम लोग बैटरी लगाते हैं ठीक है बैटरी लगाने से क्या होता है कि यहां पर हम विवांता देते हैं ठीक है अब यह कार्य कैसे करता है तो यहां पर देखी है जो है इस तरह से यह सब देख रहे हैं साइक्लोट्रॉन इस तरह से बना होता और यहां से यह आवेशित कण जो होता है वह पारित हो जाता है मैं तो यहां से गति उसे मिलती थी यहां पर देख रहे हैं तो इसमें क्या होता है कि दोनों देश के मध्य प्रत्यावर्ती विभांतर उत्पन्न करने के लिए हम लोग क्या करें यहां पर ऐसी स्रोत लगाते हैं ठीक है इतनी कार्यविधि अगर हम देखें तो ऐसी शर्त लगाते हैं ठीक है तू इससे क्या होता कि हर आधे चक्कर के बाद देश की जो

इटली चौथ होती है वह आपस में बदल जाती है ठीक है उसकी जुबान होती है बदल जाती है मतलब आधे चक्कर में जैसे इस तरह से आधे चक्कर में इसकी जो होगी दुर्गा बदल जाएगी जिससे कि जैसे कि मान लेते हैं कि माना इस पर आवेशित कर रखा हुआ है ठीक है यह यहां पर मान लेते हैं कि यह धरा आवेशित कण यहां पर रखा हुआ है ठीक है तो ध्यान आकर्षित कर रखने से क्या होता है कि प्रारंभ में डी डी डी वन जो है मान लेते हैं किधर आवेशित है और रितु ग्रीन आवेशित मानते जीवन क्या है हमारा धन आवेशित है जीवन के हमारा धन आवेशित प्रारंभ में और यह तीन आवेशित सीट तो इससे क्या होगा कि अतः इस पर रखा धन आवेशित कण जो है वह d2 की तरफ आकर्षित होगा ठीक है यह क्या है जी रावत यहां पर जो धर्म जीतकर होगा वह किसी तरह

ट्रैक्टर होगा मतलब d2 उसको खींचेगा ठीक है आकर्षित करेगा और चुंबकीय क्षेत्र नंबर लग रहा है या चुंबकीय क्षेत्र क्या होगा इसके नंबर लगेगा और यह कर वृत्तीय गति प्रगति करेगा क्योंकि जब हमारा बल यह माल है यह बैग है ठीक है और इसके नंबर अगर हमारा कोई बल कार्य कर रहा है तो यह जो गति होती है यह हमारी क्या होती है वृत्तीय गति होती है ठीक है यह हम जानते हैं कि यहां पर क्या करेगा वह कल क्या करेगा वृत्तीय गति करेगा जिससे कि हमें देख रही इस तरह से वृत्तीय गति करेगा ठीक है जैसे आधा चक्कर या नहीं भाई तू समय के बाद रोटी पूरा समय है तो आधे चक्कर में 82 पूरा करता है तो देश की आपस में डूबता बदल जाती है जैसी आधा चक्कर होगा तो अब क्या होगा बदलने से अब यह ऋण आवेशित जो होगा यह धन आवेशित हो जाएगा और यह धन आवेश उद्दीन आवेशित हो जाएगा ठीक है दिन आवेशित हो जाएगा तो इससे क्या हो जाएगा कि आधे चक्कर में

धन आवेश की ऊर्जा में क्यों भी वृद्धि हो जाती है ठीक है क्योंकि की वृद्धि हो जाती है और धन आवेश सिटी जो है लीवर की तरफ आकर्षित होकर गति करेगा जिससे कि उसकी ऊर्जा क्योंकि और भी हो जाएगी अब क्या होगा यह जो करोगे इधर आकर्षित होगा तो और इसकी क्या होगी ऊर्जा जो कहोगी वह बढ़ जाएगी तो खुल ऊर्जा में जो बढ़ोतरी होगी एक चक्कर में इस कारण में एक चक्कर में जो ऊर्जा होगी उस कनकी वह क्या हो जाएगी क्योंकि जो क्यों भी बराबर दो क्योंकि के बराबर दो क्योंकि की वृद्धि हो जाएगी तो यह घटना बार-बार दोहराई जाती है जिससे कनकी ऊर्जा के साथ वेक बरता जाता है ठीक है मतलब क्या हो रहा है कि अगर हम देख बनाएंगे तो उसकी जो उड़ जाओगी वह भी क्या होगी बढ़ेगी ठीक है तथा वेग में वृद्धि के कारण उसके वृत्तीय पद की त्रिज्या भी बढ़ती जाती जैसे-जैसे विवेक बढ़ेगा तो यह क्या करेगा ज्यादा यह दूर तक आएगा किस तरह से इसकी त्रिज्या भी बढ़ती जाती है ठीक है जैसा कि हम देख रहे हैं तो जब वृत्तीय पति के तरीके

तीजा के बराबर हो जाती है यह जो मरीज है और जो मेरा वृत्तीय पता यह दोनों की त्रिज्या जब बराबर हो जाती है तो धान आवेशित कल साइक्लोट्रॉन से बाहर द्वार से बाहर निकल जाते जैसा कि आप हम देख रहे साइक्लोट्रॉन क्या हो जाता है यह बाहर यहां से कम यह बाहर निकल जाता है जब बीज की त्रिज्या और वित्तीय जो पथ है इसकी त्रिज्या कर बराबर हो जाती है तो जो हमारा यह दुकान होता है वह बाहर निकल जाता है ठीक है और प्रत्यावर्ती विभांतर की आवृत्ति देश के अंदर आवेशित कण की परिक्रमा आवृत्ति के बराबर होनी चाहिए इसे साइक्लोट्रॉन अनुनादी स्थिति कहते हैं ठीक है कि सर क्या होती है साइक्लोट्रॉन अनुनादी स्थिति होती और इस प्रकार से यह इस जो कोई भी करना होता है इसे अधिक विकसित किया जाता है ठीक है यह इसी कार्यविधि धन्यवाद

संबंधित वीडियो

Show More
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details