logo
search
search
user
login
Login

इन अभिक्रियाओं को देखिए - (क) 6CO_(2)(g)+6H_(2)O(l)toC_(6)H_(12)O_(6)(aq)+6O_(2)(g) (ख) O_(3)(g)+H_(2)O_(2)(l)toH_(2)O(l)+2O_(2)(g) बताइए की इन्हे निम्नलिखित ढंग से लिखना ज्यादा उचित क्यों है (क) 6CO_(2)(g)+12H_(2)O(l)toC_(6)H_(12)O_(6)(aq)+6H_(2)O(l)+6O_(2)(g) (ख) O_(3)(g)+H_(2)O_(2)(l)toH_(2)O(l)+O_(2)(g)+O_(2)(g) उपरोक्त अपचयोपचय अभिक्रियाओं (क) तथा (ख) के पक्ष निर्धारण की विधि सुझाइए ।

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 16-9-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

camera

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!
check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
(क) यह प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis) की अभिक्रिया है, जोकि एक बहुत ही जटिल प्रक्रिया है और अनेक चरणों में संपन्न होती है । इस अभिक्रिया में `12H_(2)O` अणु क्लोरोफिल (chlorophyll) की उपस्थिति में पहले अपघटित होकर `H_(2)` तथा `O_(2)` देते है । इस प्रकार निर्मित `H_(2),CO_(2)` को अपचयित कर `C_(6)H_(12)O_(6)` का निर्माण करती है । आठ अभिक्रिया को एक सरल में निम्न प्रकार दिखया जा सकता है - <br> `{:(" "12H_(2)O(l)to12H_(2)(g)+6O_(2)(g) " ". . . (i)),(ul(" "6CO_(2)(g)+12H_(2)(g)toC_(6)H_(12)O_(6)(s)+6H_(2)O(l)" ". . . (ii))),(" "6CO_(2)(g)+12H_(2)O(l)toC_(6)H_(12)O_(6)(s)6H_(2)O(l)+6O_(2)(g)" ". . .(iii)):}` <br> इसलिए इस अभिक्रिया को समीo (iii) की भाँति लिखना ज्यादा उचित है । इस निरूपण में `12H_(2)O` अणु भाग लेते है तथा `6H_(2)O` अणु उत्मन्न होते है । <br> (ख) दी गई अभिक्रिया का वास्तविक प्रारूप निम्न प्रकार है - <br> `{:(" "O_(3)(g)toO_(2)(g)+O(g)" ". . .(i)),(ul(" "H_(2)O_(2)(l)+O(g)toH_(2)O(l)+O_(2)(g)" " . . . (ii))),(O_(3)(g)+H_(2)O_(2)(l)toH_(2)O(l)+O_(2)(g)+O_(2)(g)" " . . .(iii)):}` <br> समीo (iii) प्रदर्शित करती है कि `O_(2)` का एक अणु `O_(3)` से प्राप्त होता है जबकि दूसरा `H_(2)O_(2)` से प्राप्त होता है इसलिए समीकरण को प्रदर्शित करने की यह विधि अधिक उपयुक्त है । <br> समीo (क) तथा (ख) का पथ निर्धारण (investigation) ट्रेसर तकनीक (Tracer technique) के द्वारा किया जा सकता है । समीo (क) में `H_(2)O^(18)` तथा समीo (ख) में `H_(2)O_(2).^(18)` (या `O_(3).^(18)`) का प्रयोग कर अभिक्रिया के पथ को निर्धारित किया जा सकता है ।

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details