doubtnut_header_logo_white_new

ऑक्साइड आयन, O2 के निर्माण के लिए प्रथम पद ऊष्माक्षेपी तथा द्वितीय पद ऊष्माशोषी होता है जैसा की नीचे दर्शाये गया है -
O(g)+eO(g),ΔH=142KJ mol1
O(g)+eO2(g),ΔH=844KJ mol1

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased

Updated On: 27-06-2022

लिखित उत्तर

A
ऑक्सीजन अधिक विधुतऋणात्मक है
B
ऑक्सीजन की इलेक्ट्रान बंधुता अधिक होती है
C
O आयन अन्य इलेक्ट्रान के योग का विरोध करता है
D
......... आयन का आकार ऑक्सीजन परमाणु की अपेक्षा बड़ा होता है
Answer
The correct Answer is C

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

हेलो फ्रेंड प्रति दिया गया है ऑक्साइड ऑक्साइड आईएस ऑटो - चंद्रमा के लिए प्रथम ऊष्माक्षेपी और दोस्ती पद्मावती है जैसा कि नीचे दर्शाया गया है यह जो दी गई है ठीक है यह कभी देखेंगे क्यों ऐसा हो रहा है ठीक है और इसमें क्या पूछा है कि नीचे से दर्शाया गया इसमें पता करना है कि ये ऑक्सीजन अधिक विद्युत ऋण आत्मक है कि ऑक्सीजन इलेक्ट्रॉन बंधुता इसका कारण क्या करना है ठीक है देखते हैं उदासीन ऑक्सीजन में परमाणु क्या हो रहा है उदासीन ऑक्सीजन में इलेक्ट्रॉन क्या हो रहा है ऐड हो रहा है इलेक्ट्रॉन के जुड़ने
क्या होगा ऊर्जा का यहां पर एक आसान होगा जैसा कि आप देखे उर्जा का नेगेटिव आ रही है उड़ जाती है इसका तात्पर्य है कि यहां पर ऊर्जा का निष्कासन ऊर्जा का निष्कासन क्या वोहरा मीन किधर से लेकर उदासीन ऑक्सीजन परमाणु में प्रथम इलेक्ट्रॉनिक जो है प्रथम इलेक्ट्रॉन के जुड़ने पर ऊर्जा का निष्कासन हो रहा होगा कि इलेक्ट्रॉन लब्धि एंथैल्पी होगी इलेक्ट्रॉन बंधुता होगी वह क्या होगी वह रण आत्मक होगी ठीक है यहां डेल्टा जो है नेगेटिव है यहां आए थे और अब बात करें वह हमसे इलेक्ट्रॉन जोड़ के को
844 तक आएगा यहां पर क्या हो रहा है इसका कारण क्या है कि - 2 - जो है रंजू है यह आने वाले इलेक्ट्रॉन इलेक्ट्रॉन है आने वाले इलेक्ट्रॉन के बीच प्रबल विद्युत अतीक प्रतिकर्षण हो रहा है कारण क्या हो रहा है इस स्थिति में लैपटॉप जोड़ने पर क्या और ऊर्जा का यहां पर अवशोषण हो रहा है ठीक है ऊर्जा का अवशोषण हो रहा है तो इस वजह से क्या है डेल्टा ऊर्जा का हो रहा है उसको क्या करना है कि जो में ऊर्जा का होता हो रहा है तो इसमें क्या देनी पड़ रही है ठीक है 844 किलो जून को दिन अभिक्रिया में ऊर्जा दी गई है ठीक है तो इसमें जो प्रबल
जो कि विद्युत अत्याधिक प्रति का स्तर पर क्या हो सके उस पर विजय हासिल कर सके ठीक है अगर हमें ऊर्जा नहीं देंगे तो क्या होगा यह बनेगा ही नहीं कि आई डी नहीं होगा ठीक है विजय हासिल करने के लिए हमको क्या करना होगा इसमें आपको पता है वह पॉजिटिव है और 2 तारीख की प्रथम जो है नेगेटिव में देखते हैं लेकिन इसमें ऑप्शन में दिया है कि ऑक्सीजन जो है वह विद्युत ऋण आत्मक है ठीक है इसमें जो ऑक्सीजन माइंड को - है और इलेक्ट्रॉन है इसके फोटो - बनना है इसमें मेन रीजन यह है कि ऊर्जा का शोषण हो रहा है इसका मैप
के बीच में जो है इसकी वजह से क्या हो रहा है यह इलेक्ट्रॉन इलेक्ट्रॉनिक में उर्जा का हो रहा है पहला विकल्प दिया है ऑप्शन अधिक विद्युत ऋण आत्मक है ठीक है तो फोन बंद होता अधिक होती है इलेक्ट्रॉन बंधुता होती है इलेक्ट्रॉन बंधुता में एक अतिरिक्त इलेक्ट्रॉन ग्रहण किए जाने से उसके ऋण आयन में परिवर्तन के फल स्वरुप जो ऊर्जा की मात्रा मुक्त होती है निरमुक्त होती है उसे क्या कहते हैं इलेक्ट्रॉन बंधुता इलेक्ट्रॉन बंधुता भी नहीं होगा इसका मेन कारण यह है कि जो ओमाइनस और इलेक्ट्रॉन है इसका मेन कारण यह देखिए
नॉनवेज जोक का विरोध करता है ठीक है यह समझ गया है इसमें जो है वह पॉजिटिव है जो - आयन है वह क्या हो रहा है वह अन्य इलेक्ट्रॉन का अन्य इलेक्ट्रॉन के योग का योग का विरोध कर रहा है ठीक है विरोध विरोध कर रहा है इसका कारण क्या है इसका कारण भी देख लेते हैं इसका कारण यह है कि इनमें क्या हो रहा है प्रबल विद्युत स्थैतिक
प्रतिकार तक में लिख लेते हैं इसमें क्या प्रतिकर्षण के कारण कारण प्रबल विद्युत प्रति करता है इस स्थिति में इलेक्ट्रॉन को जोड़ने के लिए ऊर्जा का वितरण हो रहा है और इसमें विरोध कर रहा है इलेक्ट्रॉन को जोड़ने में ठीक है रिटर्न दे रहा है ठीक है तुम्हारा क्या हो गया थर्ड पार्ट
संबंधित वीडियो
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्नलिखित समीकरणों के आधार पर ,
H2O(g)+C(s)CO(g)+H2(g),ΔH=131kJ
CO(g)+12O2(g)CO2(g),ΔH=282kJ
H2(g)+12O2(g)H2O,ΔH=242kJ
C(s)+O2(g)CO2(g),ΔH=xkJ
x का मान होगा -

110395072

9K04:55

निम्नलिखित समीकरणों के आधार पर ,
H2O(g)+C(s)CO(g)+H2(g),ΔH=131kJ
CO(g)+12O2(g)CO2(g),ΔH=282kJ
H2(g)+12O2(g)H2O,ΔH=242kJ
C(s)+O2(g)CO2(g),ΔH=xkJ
x का मान होगा -
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्न आँकड़ो से ग्लूकोज की संभवन ऊष्मा की गणना कीजिए -
C(s)+O2(g)CO2(g),ΔH=395.0kJ
H2(g)+12O2(g)H2O(l),ΔH=269.4kJ
C6H12O6(s)+6O2(g)6CO2(g)+6H2O(l),ΔH=2900kJ

110394779

2K07:10

निम्न आँकड़ो से ग्लूकोज की संभवन ऊष्मा की गणना कीजिए -
C(s)+O2(g)CO2(g),ΔH=395.0kJ
H2(g)+12O2(g)H2O(l),ΔH=269.4kJ
C6H12O6(s)+6O2(g)6CO2(g)+6H2O(l),ΔH=2900kJ
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
298K पर अभिक्रिया 2H2O(l)2H2(g)+O2(g) के लिए साम्य स्थिरांक की गणना कीजिए । दिया हुआ है - ΔfG[H2O(l)]=237.2kJmol1 तथा R=8.314JK1mol1.

110394803

8.6K08:05

298K पर अभिक्रिया 2H2O(l)2H2(g)+O2(g) के लिए साम्य स्थिरांक की गणना कीजिए । दिया हुआ है - ΔfG[H2O(l)]=237.2kJmol1 तथा R=8.314JK1mol1.
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
300K ताप पर अभिक्रिया C2H4(g)+3O2(g)2CO2(g)+2H2O(l)  के लिये  ΔH=1200kJ  है। इस अभिक्रिया के लिये ΔU  का मान ज्ञात कीजिये।

505778051

3.1K03:58

300K ताप पर अभिक्रिया C2H4(g)+3O2(g)2CO2(g)+2H2O(l)  के लिये  ΔH=1200kJ  है। इस अभिक्रिया के लिये ΔU  का मान ज्ञात कीजिये।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्न अभिक्रिया के लिए 298 K पर एन्ट्रॉपी में परिवर्तन की गणना कीजिएः
H2(g)+12O2(g)H2O(g)
दिया है ΔH=241.60kJ,ΔG=228.40kJ

434170851

6.3K02:08

निम्न अभिक्रिया के लिए 298 K पर एन्ट्रॉपी में परिवर्तन की गणना कीजिएः
H2(g)+12O2(g)H2O(g)
दिया है ΔH=241.60kJ,ΔG=228.40kJ
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
दिया गया है, C(graphite)+O2(g)CO2(g)r(g)Ho=393.5kJmoI1<br>H2(g)+12O2(g)H2O(l)rHo=285.8kJmoI1<br>CO2(g)=2H2O(l)CH4(g)+202(g)rHo=+890.3kJmoI1 ऊपर दिए गए ऊष्मरासायनिक समीकरणों के आधार पर,298 K पर अभिक्रिया C(graphite)+2H2(g)CH4(g)के लिए rHo का मान होगा :

364568592

6.4K03:50

दिया गया है, C(graphite)+O2(g)CO2(g)r(g)Ho=393.5kJmoI1<br>H2(g)+12O2(g)H2O(l)rHo=285.8kJmoI1<br>CO2(g)=2H2O(l)CH4(g)+202(g)rHo=+890.3kJmoI1 ऊपर दिए गए ऊष्मरासायनिक समीकरणों के आधार पर,298 K पर अभिक्रिया C(graphite)+2H2(g)CH4(g)के लिए rHo का मान होगा :
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
अभिक्रिया, CH4(g)+2O2(g)CO2(g)+2H2O(l), के लिए मानक अभिक्रिया एन्थैल्पी के मान की गणना कीजिये, यदि CH4(g),CO2(g), तथा H2O(l) की मानक संभवन एन्थैल्पी के मान क्रमश : 74.91kJmol1,394.12mol1, 286.31kJmol1 तथा हो ।

110394774

0.4K05:00

अभिक्रिया, CH4(g)+2O2(g)CO2(g)+2H2O(l), के लिए मानक अभिक्रिया एन्थैल्पी के मान की गणना कीजिये, यदि CH4(g),CO2(g), तथा H2O(l) की मानक संभवन एन्थैल्पी के मान क्रमश : 74.91kJmol1,394.12mol1, 286.31kJmol1 तथा हो ।
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
बताइए कि निम्नलिखित प्रक्रम ऊष्माक्षेपी है अथवा ऊष्माशोषी -
(i) KCl(s)+aqKCl(aq),ΔH=+18.6kJ
(ii) HCl(aq)+NaOH(aq)NaCl(aq)+H2O(l),ΔH=57.1kJ
(iii) H2O(l)H2O(s),ΔH=6.01kJ
(iv) H2O(l)H2O(g),ΔH=+40.7kJ|

110394882

2.6K04:21

बताइए कि निम्नलिखित प्रक्रम ऊष्माक्षेपी है अथवा ऊष्माशोषी -
(i) KCl(s)+aqKCl(aq),ΔH=+18.6kJ
(ii) HCl(aq)+NaOH(aq)NaCl(aq)+H2O(l),ΔH=57.1kJ
(iii) H2O(l)H2O(s),ΔH=6.01kJ
(iv) H2O(l)H2O(g),ΔH=+40.7kJ|
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
ऑक्साइड आयन O2(g) का ऑक्सीजन परमाणु से बनने के लिये पहले ऊष्माक्षेपी एवं बाद में ऊष्माशोषी पद नीचे दिये गये हैं: -
O(g)+eO(g),ΔfHө=141kJ mol1
O(g)+eO2(g),ΔfHө=+780kJ mol1
गैसीय O2 का बनना प्रतिकूल है यद्यपि O2 निऑन का समइलेक्ट्रॉनी है। यह किस तथ्य के कारण है?

645690238

1.1K02:27

ऑक्साइड आयन O2(g) का ऑक्सीजन परमाणु से बनने के लिये पहले ऊष्माक्षेपी एवं बाद में ऊष्माशोषी पद नीचे दिये गये हैं: -
O(g)+eO(g),ΔfHө=141kJ mol1
O(g)+eO2(g),ΔfHө=+780kJ mol1
गैसीय O2 का बनना प्रतिकूल है यद्यपि O2 निऑन का समइलेक्ट्रॉनी है। यह किस तथ्य के कारण है?
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
दिए हुए आँकड़ों का प्रयोग कर, C2H2 में एक CC बंध की बहुआबन्ध ऊर्जा (multiple bond energy kJ mol1) का परिकलन कीजिए। वह ऊर्जा निम्न है (C-H बंध की बन्धन ऊर्जा 350kJmol1 ले )
2C(s)+H2(g)C2H2(g) ΔH=225kJmol1
2C(s)2C(g) ΔH=1410kJmol1
H2(g)2H(g) ΔH=330kJmol1

559603517

2.2K05:25

दिए हुए आँकड़ों का प्रयोग कर, C2H2 में एक CC बंध की बहुआबन्ध ऊर्जा (multiple bond energy kJ mol1) का परिकलन कीजिए। वह ऊर्जा निम्न है (C-H बंध की बन्धन ऊर्जा 350kJmol1 ले )
2C(s)+H2(g)C2H2(g) ΔH=225kJmol1
2C(s)2C(g) ΔH=1410kJmol1
H2(g)2H(g) ΔH=330kJmol1
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्नलिखित आंकड़ों से CH3OH(l) की मानक - विरचन एन्थैल्पी ज्ञात कीजिए -
CH3OH(l)+32O2(g)CO2(g)+2H2O(l),
ΔrH=726kJmol1
C(g)+O2(g)CO2(g),ΔfH=393kJmol1
H2(g)+12O2(g)H2O(l),ΔfH=286kJmol1

110395214

5.3K02:52

निम्नलिखित आंकड़ों से CH3OH(l) की मानक - विरचन एन्थैल्पी ज्ञात कीजिए -
CH3OH(l)+32O2(g)CO2(g)+2H2O(l),
ΔrH=726kJmol1
C(g)+O2(g)CO2(g),ΔfH=393kJmol1
H2(g)+12O2(g)H2O(l),ΔfH=286kJmol1
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्नलिखित आँकड़ो से CH3OH(l) की मानक -विरचन एन्थेलपी ज्ञात कीजिए -
CH3OH(l)+32O2(g)CO2(g)+2H2O(l),ΔrHө=726 kJ mol1
C (ग्रैफाइट) +O2(g)CO2(g),ΔcHө=393 kJ mol1
H2(g)+12O2(g)H2O(l),ΔfHө=286 kJ mol1

55747012

0.3K07:29

निम्नलिखित आँकड़ो से CH3OH(l) की मानक -विरचन एन्थेलपी ज्ञात कीजिए -
CH3OH(l)+32O2(g)CO2(g)+2H2O(l),ΔrHө=726 kJ mol1
C (ग्रैफाइट) +O2(g)CO2(g),ΔcHө=393 kJ mol1
H2(g)+12O2(g)H2O(l),ΔfHө=286 kJ mol1
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
एक फलन g जो प्रत्येक वास्तविक संख्या x>0 के लिए परिभाषित है तथा g(1)=1,g'(x2)=x3 को सभी x>0 के लिए सन्तुष्ट करता है, तो g (4) का मान है

358827611

4.7K04:50

एक फलन g जो प्रत्येक वास्तविक संख्या x>0 के लिए परिभाषित है तथा g(1)=1,g'(x2)=x3 को सभी x>0 के लिए सन्तुष्ट करता है, तो g (4) का मान है
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
निम्नलिखित ऑकड़ों के आधार पर कार्बन मोनोक्साइड (CO) के गठन की ऊष्मा (या एन्थैल्पी) ज्ञात करें।
(i) C(s)+O2(g)CO2(g):ΔH=393.3kJmol1
(ii) CO(g)+12O2(g)CO2(g),ΔH=282.8kJmol1

95013733

3.8K04:54

निम्नलिखित ऑकड़ों के आधार पर कार्बन मोनोक्साइड (CO) के गठन की ऊष्मा (या एन्थैल्पी) ज्ञात करें।
(i) C(s)+O2(g)CO2(g):ΔH=393.3kJmol1
(ii) CO(g)+12O2(g)CO2(g),ΔH=282.8kJmol1
doubtnut_header_logo_white_new
FULL VIDEO AND TEXT SOLUTION
प्रथम कोटि की अभिक्रिया
2N2O5(g)4NO2(g)+O2(g)

565340052

4.9K04:17

प्रथम कोटि की अभिक्रिया
2N2O5(g)4NO2(g)+O2(g)