logo
search
search
user
login
Login

1.0 किग्रा के एक हथौड़े से एक नगण्य द्रव्यमान की कील के माथे (head ) पर 10 मी/से के वेग से आघात करके एक लकड़ी के गुटके, में 10 सेमी की गहराई तक धंसा दिया जाता है तो ज्ञात कीजिए: (i) आघात (impact ) के दौरान कील में उत्पन्न त्वरण (ii) आघात अवधि (iii) बल का आवेग।

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 24-1-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

29.3 K+

1.5 K+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
(i ) माना आघात के समय गुटके में कील का त्वरण a है। तब समीकरण `v^(2)=u^(2) +2as(0।1)` <br> `" " 0=(10)^(2)+2a(0।1)` <br> अथवा `" " a=--(10xx10)/(2xx0।1)`मी/से `""^(2)` =-500 मी/से `""^(2)`।<br> वास्तव में कील में त्वरण के बजाय मंदन होगा। (ii ) आघात की अवधि के परिकलन के लिए समीकरण v =u +at का उपयोग करने पर, <br> `" "0=10+(-500)xxt` <br> अथवा `" " t=(10)/(500) `= 0 .02 सेकंड। <br> (iii ) बल का आवेग = संवेग परिवर्तन (हथौड़े के ) <br> `" " =mv -m u =m (v-u)=1।0(0-10)` <br> =- 10 किग्रा मी/से`""^(1)`।

संबंधित वीडियो

Show More

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details